राज की सेक्सी मा (मोम)

में एक लडका हून। करेब 13-14 साल पहलेय की बात हाइ, जाब में C A की ताइयारी कर रहा था। थीख परिक्षा के पहलेय, मेरे सर का फोने मेरी मोम कू आया था। मेरी मोम बादि सेक्सी है। मेरी मोम कू मेरे सर नेय फोने कर कहा की, आज रात तुम 6।30 पम पर आपनीय बेता के साअथ आ जाना। तब मेरी मोम थोदि गरम हू गयी थी। उसे भि बहूत सेक्स खेल चहियी। मेरी मोम ने आपनेय आप को बहूत गरम किया। तब में और मेरी मोम थीक 6।30 पम पर मेरे सर के यहा पहूनचेय। में मोम के बदन कि गरमि को महसूस कर रहा था। जाब हुम सर के यहान पहूनचेय, सर नेय हुम दोनो को अनदार बूलया। मेरी मोम नेय करीब 4-5 मिन। सर सेय अखोन हि आखोन में बातेन कि। मेरे सर भि बहूत गराम हो गाये थेय। ऊस दिन मोम भि बहूत सेक्सी लग रहि थी। मेरे सर के ईक आउर चूतेय भै भि हैन।
फिर मुझे मेरे सर नेय बोला कि, तुम दूसरे कमरेय में बैथ जाओ। ताब में दूसरे कमरे में बैथ गया। आब सर मेरी मोम कू धीरे धीर किस्स कर रहे थे। मेरी मोम नेय अपनि बलौसे कू ऊतार दिया था। वोह बादि तेरजलि है। फिर सर नेय मोम के बूबस कू देखा। फिर सर, सर के भै आउर मोम ऊपर के कमरे में सेक्स करने के लिये चले गये। आब, मोम पूरि तरह ननगि हो चूकि थि। मोम ननगि ही बेद पर सोयी थी। आब सर नेय थोदा और मोम को गरम करने के लिये मोम के पव से हाथ कू धीरेय धीरेय ऊपेर कि ऊर लना चालू किया। मोम थोदि और गरम होनेय लगि थि। मोम कि स्सस्सस्सस्सस कि आवाजेन आने लगि थी। अब सर नेय मोम के नवेल पैर धीरे धीरे ऊनगलि करना चालू किया। मोम तदप रहि थि। आब सर आपने हाथ कू पयार से आउर ऊपेर कि तराफ़ बूबस को हाथ लगाते हुये लेय गेये। मोम आउर तदाप ऊथी थी। मोम कू मजा आ रहा था। सर ने मोम कि धुन्नि के अनदर आपनि जीभ घुमाइ। मोम गरम हो चलि थी। मोम से रहा नहि जा रहा था। आब मोम सर के मौथ कू दूगेय सतिले में किस्स कर रहि थी। आउर सर के चोतेय भै मोम के नीचे थे। और, मोम कि धुन्नि को सर के चूते भै बदेय पयार सीय किस्स पर किस्स किये जा रहे थे। मोम भि सर को गरम किस्स पर किस्स थिये जा रहि थि।
आब मोम भि ईस हरकत सेय बहूत जयदा पागाल होने लगि थी। लेकिन मोम को भि बदा मजा आ रहा था। मोम सर कू मेरे लिये बोलना हि भूल गयी थी। फिर सर नेय दोगेय सतिले में मोम के अनदर पेनिस दालि। मोम बूरि तरह तदप ऊथी। लेकिन सर नेय रपे करना चालू रखा। मोम को भि अच्चा लगने लगा था। मेरी मोम बहूत चरहरि और चनचल सवभव और चनचल बदन कि हैन। आब तक मोम कि झिल्लि तूत चूकि थि। मोम कू भि चूदवाना अच्चा लग रहा था। येह साब थीक 4 - 6 हौरस तक चलता रहा। ऊपेर वलीय कमरैय सेय मोम कि सिसकनेय कि आउर चूथवानेय कि आवाजेन आ रही थि। मोम को भि बहूत मजा आ रहा था। फिर थेक 6 हौरस के बाद जब मोम सादि पहन कर नीचे आयी ताब सर नेय मुझेय बोला कि चलू आब पधाइ खतम।
आब मोम भि ईस हरकत सेय बहूत जयदा पागाल होने लगि थी। लेकिन मोम को भि बदा मजा आ रहा था। मोम सर कू मेरे लिये बोलना हि भूल गयी थी। फिर सर नेय दोगेय सतिले में मोम के अनदर पेनिस दालि। मोम बूरि तरह तदप ऊथी। लेकिन सर नेय रपे करना चालू रखा। मोम को भि अच्चा लगने लगा था। मेरी मोम बहूत चरहरि और चनचल सवभव और चनचल बदन कि हैन। आब तक मोम कि झिल्लि तूत चूकि थि। मोम कू भि चूदवाना अच्चा लग रहा था। येह साब थीक 4 - 6 हौरस तक चलता रहा। ऊपेर वलीय कमरैय सेय मोम कि सिसकनेय कि आउर चूथवानेय कि आवाजेन आ रही थि। मोम को भि बहूत मजा आ रहा था। फिर थेक 6 हौरस के बाद जब मोम सादि पहन कर नीचे आयी ताब सर नेय मुझेय बोला कि चलू आब पधाइ खतम।
हजारों कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर !

मेरी सेक्सी मोम

ये कहानी उस समय कि है जब मे सोल्लेगे मे सतुदेनत था। I was 20 and my mom was of 35yrs. She was a sexy lady with very good attaractive body figure and also full of sexual desires. I have seen her from bathroom holes bathing nudes and once having sex with father. From that day I had a desire to have sex with mom like my father was enjoying on that night. One night my father was out of station and I was in my bedroom. But I could not sleep thereafter I started masturbating on a long round pillow doing act like having sex and in the mean time my mom opened the door and entered the room.

दरवजा खुलने कि अवज़ से मैं घबरकर रुक गया लेकिन मैं तकिये के उपर था। फिर मैं तकिये पर से बगल मे लेत गया। मोम ने पुछा कया हुअ,कया कर रहे थे? मैने कहा कि निनद नहि आ रह है, कुच बैचेनि सि है । फिर मैने मोम से पुछा कया तुमको निनद नहि आ रहि है। वो बोलि हान मुझे भि निनद नहि आ रहि है। मैने कहा कि आप भि यहिन लेत जैये। फिर वो मेरे पस भैथ गयि। मैने फिर कहा कि यहि सो जओ मेरे पस। फिर वो लेत गयि। कुतच देर बद मैने पुछा निनद नहि आ रहि है तो कहनि पधते है, मैने पपा कि कितब कि रसक से एक सेक्सी कहनि कि बूक निकलि और कहा कि इसको पधते है –मोम बोलि कया है, मैने कहा पधने मे बहुत मजा अयेगा, बहुत गुदगुदि भि होति है इसको पधने से। फिर मैने कितब को बितच मे रखकर दोनो पधने लगे, फिर मैने कहा मैं पधकर सुनता हु लिघत कम थि। मैने उनको सेक्सी कहनि पधकर सुनने लगा और उसमे एक लदी का दुसरे मरद के सथ सेक्स का किस्सा था बहुत देतैल मे था वो बोलि ये सब कया है मैने कहा अलमरि मे रखि थि, वो बोलि इसमे बदो कि गनदि बते है, इसको नहि पधना चहिये, मैने कहा फिर तुमहरि और दद कि अलमिरह मे कयो रखि है, एक बर पधते है,सुनो ना फिर उसको भि मज़ा अने लगा वो भि एक्ससितेद होने लगि और बिच बितच मे अपनि बुर खुजला रहि थि मैने कहा गुदगुदि हो रहि है ना, मेरे भि इसमे(अपने लनद पर इसरा करते हुए कहा) बहुत हो रहि है सरे बदन मे हो रहि है। फिर मैने कहा कि अब आप पधिये, फिर वो पधने लगि वो बहुत एक्ससितेद हो गयी। फिर उसने कितब बनद करके रख दि और बिसतर पर लेत गयी। मैने पुचा कया हुअ तो वो बोलि बैचेनि हो रहि है, कुच खुजलि भि बदन पर हो रहि है। मैने पुचा पोवदेर बदन पे लगने से अरम मिलेगा वो बोलि हान थिक है पोवदेर हि लगा दो मैं बगल रूम से पोवदेर लेकर अया तब मोम पेत के बल लेति थी बोलि कमर मे लगा दो, मैने देखा क्कि उनहोने बलोवसे के बुत्तोन खोले हुए थे और बरा भि खोल दि थि।
मैं पोवदेर कमर पर बलोवसे के अनदर हथ देकर मलने लगा अहिसता अहिसता पुरि कमर पर मलते हुए सिदे से बूबस भि मसलने लगा फिर मैने सिदे से बूबस पर पोवदेर लगते लगते दबने लगा उसको मज़्ज़ा आ रहा था। फिर मैन कहा कि समने घुमो गरदन के पस भि लगा देता हुन। वो घुमि तो बलोवसे के बुत्तुन खुले हुए थे और बूबस बहर ननगे थे। ।बदे बदे बूबस बहुत सेक्सी लग रहे थे, मैने तुरनत गरदन और फिर बूबस पर पोवदेर लगने लगा और अब तो बूबस भि मसल रहा था वो कुच नहि बोल रहि थि। फिर मैने मसलते मसलते हथ बूबस के निचे पेत पर फिर नवहि पर मसला और धिरे से उनका पेतिकोत का नरा खोल दिया, और अपने हथ अनदर दलकर जनघ पर फेरते फेरते बुर पर भि पोवदेर लगने लगा वो बोलि ये कया कर रहे हो मैने कहा थिक से लगा देता हु फिर निनद भि थिक से आ जयेगि। फिर मैने हथ उनके गोल गोल चुतर पर फेरने लगा सच मे बदा मज़ा आ रहा था – मैने पुचा कया मज़ा आ रहा है अरम मिल रहा है अब तो अछा लग रहा है, मैने चुतर पर हथ फेरते फेरते उनके उपर चद गया और बोला अब बान भि दब जयेगा फिर मैने कमर के निचे से बूबस पकद कर जोर जोर से दबने लगा अब वो पुरि तदप रहि थि मैने कहा कितब वला ससेने करते है मेरे बदन मे जोर जोर से गुदगुदि हो रहि है फिर अचनक वो बोलिये कया कर रहे हो, मैने कहा दरवजा बनद है, किशि को पता नहि चलेगा, मैं किसिसे नहि कहुनगा,तुमहरि कसम, और मज़ा भि आ जयेगा,पलेअसे मना मत करो। मैने फिर से उनको कहा कि कहनि कि तरह मज़ा करते है मैने अपना पज़मा खोल दिया और उनके जनघो पर बैथा तो उनहोने मेरा लंद पकद कर लनद पर हथ फेरते हुए कहा कि परोमिसे करो तुम किसिसे कभि भि नहि कहोगे। मैने कहा परोमिसे और फिर कया था उनहोने अपने सरे कपदे बदन से अलग कर दिये मैने कहा कि आप जैसे बोलेनगि वैसे करुनगा उनहोने कहा वैसे हि करते जओ जैसे जैसे कहनि मे पधा था मैने उनके बूबस को चुसना शुरु किया और दबा भि रहा था फिर वो भि मेरे लंद पर हथ फेरने लगि मैने भि एक हथ कि अनगुलि से बुर दबने लगा और अनगुलि अनदर कर दि।
फिर वो मुह से शह्हह्हह अवज़ निकलने लगि। फिर मैने उनसे कितब के ससेने कि तरह उनसे दोग्गी सतयके मे उथने को कहा और अपने लंद को पिचे से उनके बुर के छेद के पस ले जकर लंद को फेरने लगा उधर दोनो हथो से बूबस भि दबा रहा था। फ़नतसतिस, बदा मज़ा आ रहा था, अचनक हि लंद फिसला और झतके के सथ बुर मे घुस गया, कयोकि उनकि बुर का छेद चुदवते चुदवते कुच तो बरा हो गया था, उनके मुह से भि मेरे मुह से भि जोर कि शह्हह …।।आह … आह …शह्हह कि आवज़ निकलने लगि। मैने अब धक्का लगना सुरु किया, धिरे धिरे धक्के कि सपीद भि भि बधा रहा था, कया मज़ा आ रहा था, वो भि बोलि और जोर से और जोर से, मैने बूबस को जोर से दबकर घुनदियो को खिचा और धक्के लगने लगा।।अह…उह…।ओह…सुपेरब…श्शश……और और जोर से ,कया बत है, और झतका दु, बोलने लगा, फिर अपना लंद बहर निकला और वो बेद पर सिधा लेत गयी मैने धिरे धिरे बदन पर हथ फेरा
फिर बुर मे उनगलि घुसकर भितर के पोइनत को सहलने लगा ये उनका गसपोत था,वो बहुत जोर से हिलगयी और आअ…आअ।।श्शश।।उह…।।आवज़ निकलि, मैने अब लंद को उनके बदन पर बूबस पर फिरना शुरु किया उपर से निचे कि तरफ़ लने लगा,फिर उनहोने मेरा मुह अपने मुह के पस लकर जोर से किस्स किया मैं भि जोर जोर से किस्स करने कगा और अपनि जिभ भि उनके मुह पा फरने लगा चुसने मे मज़ा आ रहा था , वो सथ सथ मेरे लंद को ऐक हथ से जोर जोर से सहला रहि थि, मैं भि बोला बहुत मज़ा दे रहि हो। फिर उनहोने मेरे को जोर से अपनि तरफ़ खिनचकर बहो मे जकद लिया मैने भि उनको भिच दिया उनके बूबस मेरे बूबस से चिपक कर दब रहे थे, कया रगद का मज़ा था। फिर उनहोने अपनि जनघ फैलयी और कहा अब जलदि जलदि जो जोर जोर से यहा ले आओ और मैने लंद तुरनत हि उनकि बुर मे घुसकर धिरे धिरे हिलने लगा, फिर वो बोलि आअह ऐसे नहि चलेगा जोर जोर से झतके लगओ और मैने जोर जोर से धक्का लगना शुरु किया, कया मसत चुदै का अननद आ रहा था वो भि मज़्ज़ा ले रहि थि शह…शह।आ……कया बत है आह…आ।।शह…।अह्हह्हह्ह…ओह्हह्हह्ह और जोर जोर से लगओ बहुत मज़ा आ रहा है, मैने भि पुरि तकत से लंद को भितर थोकने लगा, चुदै पुरि सपीद पर थि और अब मैं झरने लगा मेरा रस झरने लगा और मैं शनत होकर उनके ननगे बदन से जोर से लिपत गया और सोया रहा, गुदगुदे बदन पर बदा मज़ा आ रहा था फिर वो बोलि चलो हतो बहुत देर हो गयि है सोते है, और वो अपने कपदे थिक करने लगि। फिर बोलि ये रज हि रखना किसिसे कभि मत कहना। मैने परोमिसे कहते हुए उनके बूबस को दबकर किस्स कर लिया और बुर को दबते हुए कहा फिर कभि गुदगुदु होगि तो ……और वो हसने लगि मैं भि समझ गया। बोलि बदमस हो गये हो, चल सो जा और वो अपने कमरे मे सोने चलि गयी।
हजारों कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर !

गर्म प्रिया चाची

हि मी नमे इस परवीन इ अम फ़रोम जैपुर थिस इस मी सेसोनद सतोरी तो इस्स रेअदेरस। थिस सतोरी इस रेअल मी हौसे इन जैपुर अत मनसरोवर सोलोनी। मेन बसस फ़िनल येअर का सतुदेनत हून। बात तवो मोनथस पेहले कि है ।हमरे घर के समने एक जैन फ़मिली रेहते थि जो उनसले थेय वोह मेरे पपा के सलोसे फ़रेनद है उनकि एक 7 साल कि बेति है और उनकि विफ़े परिया।
परिया औनती को मेन चचि कह कर बुलता हून। परिया चचि कि अगे 33 साल कि है वोह म।अ कर रहि है वोह भि हमरे हि सोल्लगे सय। परिया चचि देखने मेन बहुत हि सेक्सी है उनका फ़िगुरे 40-36-40 है वोह हमेशा हि सरी पेहनति है। वोह सरी भि ऐसे पेहनति है कि पीचे से उनकि कमर साफ़ दिखति है उनके बदे बदे बूबस को मेन हमेशा हि देखा करता हून।
वोह जब कपदे सुखने आति है तो अपनि सरी को चूता कर के अपने पेत पर अतका देति है जिस्से कि उनके बूबस बलौसे के अनदेर बदे बदे साफ़ दिखै देते है। वोह जब भि नहा कर आति है तो बलसोनी मेन अपने बाल सुखति है उनके गिले बदन मेन से उनकि चूचि बहुत हि मसत लगति है। मेन किसि भि काम से उनके घर जता हूओन तो मेरे नज़र उनके बूबस पर हि होति है। लेकिन वोह इतना धयन नहिन देति कि मेन उनके बूबस देख रहा हूओन। चचि कि गानद इतनि मसत है कि एक बार तौच कर ने का दिल करता है। एक दिन होलि का दिन था चचि और उनकि बेते निशा ने मुझे अपने घर बुलया और मुझ पर उनकि बेति ने पानि गिरा दिया और मुझे रनग लगने के लिये जिद करने लगि जब मेने मना किया तो चचि ने कहा कि बच्चि का दिल रखने के लिये थोदा लगवा लो। मेने कहा नहिन चचि मेन नहा कर आया हून मेन और रनग लगवौनगा। तब निशा ने कहा मुम्मी आप भैया को पकदो मेन रनग लगा देति हून फिर चचि ने मुझे पीचे से पकद लिया उनके बूबस मेरि पीथ पर लग रहे थेय।
लिफ़े मेन पेहलि बार कोइ औरत मेरे इतना करीब थि मेरि हालत खरब हो रहि थि चचि के बूबस मेरे पीथ से रगद रहे थेय और निशा मेरे सोलोर लगा रहि थि मेरे गानद उनकि चूओत से चिपकि हुइ थि। जब निशा ने सोलौर लगा दिया तब उसने कहा मुम्मी आप भि भैया को सोलौर लगो लो इस बार मेने आना कनि नहिन कि चचि ने मुझे कहा देख जयदा मना करेगा तो गलति से आनख मेन भि सोलौर जा सकता है। मुझे मज़ा आ गया औनती ने मेरे चेहरे पर सोलौर लगया फिर मेरे हाथ पर उस दिन मेने निक्कर पेहनि थि चचि मेरे तनगून मेन भि सोलौर लगने लगे तो मेने मना कर दिया औनती ने जबरदसति सोलौर लगा दिया तब उनहोने कहा कि तेरि शिरत उपेर कर मेने कहा देखू चचि जि आप तो लगा रहि है पर मेन भि लगौनगा तब चचि ने कहा आज तो लगा लेना।
जब मेरि बारि आयि तो चचि ने मना कर दिया और अपना गते बनद कर दिया। मेने बहुत कहा चचि येह बात गलत है आप ने मुझे लगा दिया और मेरि बारि आयि है तो आप मना कर रहि है लेकिन चचि ने दरवजा नहि खोला। 2 घनते बाद चचि के भै और वोह सब होलि केहलने आये तो उनहोने चचि को सोलौर लगया और उनसले को भि सोलौर लगया थोदि देर बाद वोहो चले गये चचि दरवज़ा बनद करना भूल गये और सोलौर से भरा हुअ उनका आनगर धूने लगि। थभि मेन वहन चला गया मुझे देख कर वोह आपने कमरे मेन भगने लगि तभि मेने उनको पीचि से उनका हाथ पकद का खिचि लिया मेरा लुनद उनकि गानद से तकरा गया मेऐन उनको सोलौर लगने लगा चेहरे पर लगते लगते मेरा हात उनके बूबस पर लगा। उनके बूबस इतने सोफ़त थेय कि मेरा लुनद 7 इनच लमबा हो गया इस्स से पेहले मेने कभि किसि के बूबस को तौच नहि किया था उनको सोलौर लगने के बाद मेन आपने घर चला गया। जब मेन नहा रहा तो मेरे खया मेन सिरफ़ चचि हि आ रहि थि मेने बथरूम मे मुत्तह्ह मार कर आपनि पयास शन्नत कि। एक दिन उनसले ने मेरे पपा से कहा कि उनसले के ममा जि के देअथ हो गये है और उनको जैसेलमेर जना है निशा के एक्सम है इसलिये मेन अकेला हि जा रहा हून आप लोग परिया और नेहा का धयन रखना मेन 2 दिन मेन आअ जौनगा। येह बात मेरि मुम्मी ने मुझे बतै कि उनसले 2 दिन के लिये बहर गये है तो तुझे आज रात निशा और परिया जि के घर पर रेहना है मुझे मज़ा आ गया मेने सोचा कि आज चचि को झि भर कर देखोनगा।
मेन खना खा कर उनके घर सोने चला गया उनके घर मेन 2 कमरे है चचि ने मुझ से कहा कि तु हमरे पास हि सो जा मेने कहा थीक है और मेन उनके पास हि सो गया रात को मे जब पनि पीने को उथा तो देखा कि चचि के सारे का पल्लु उनके नीचे गिरा हुअ था उनके बलौसे के 2 बुत्तोन भि खुले हुए थे उनहोने कलि सोलौर कि बरा पेहनि थि उनके बूबस बहुत हि बदे थेय उनका गोरा गोरा पेत भि साफ़ दिख रहा था मेन 10 मिनुतेस तक उनको देखता रहा। फिर अचनक उनकि नीनद खुल गये तब उनहोने मुझे पूचा कि परवीन कया कर रहे हो नीनद नहि आ रहि है कया मेन दर गया और कहा नहि चचि मेन तो पनि पीने को उथा था और मेन वपस जा कर सो गया मुझे पुरि रात नीनद नहि आउये मुझे सारि रात चचि के बरे मेन हि सोच रहा था।
सुभह जब मेन उथा तब तक निश सचूल जा चुकि थि और चचि आपना कम कर रहि थि जब मेन उथा तो चचि ने कहा कि परवीन मेन तेरे लिया तेअ बना देति हून जब चचि तेअ बना कर लयि तब मेन अखबर फद रहा था उस दिन शनिवर था जब रनगीन अखबर आथा था उसमे बोल्लोयवूद कि खबरे आति थि उस अखबर मेन उस दिन मल्लिका शेरवत के सेक्सी फोतो चफि थि मेन वहो देख हि रहा था कि चचि आ गयि और मुझे कहा कि येह तेरि फ़वौरते हेरोइन है कया तब मेने कहा नहिन तो उनहोने कहा कि तुने इसके मुरदेर देखि है कया । तब मेरि हिम्मत बद गयि मेने कहा चचि आप ने देखि है कया तब उनहोने कहा कि हान तेरे उनसले और मेने येह पिसतुरे सद पे देखि है।
मेने कहा चचि जि येह तो बहुत हि गनदि पिसतुरे है इस मेन बहुत हि गनदे गनदे ससीन है। फिर औनती ने कहा कि परवीन तेरे कोइ गिरलफ़रेनद है कया मेने कहा नहि । मेने कहा कि मेरे एक फ़रिएनद कि है और वहो उसके साथ गलत गलत काम करता है। चचि ने कहा गलत काम कया सेक्स करता है कया मेने कहा हान तब उनहोने कहा कि येह कोइ गलत काम थोदि है । मेने कहा चचि मेने आज तक किसि लदकि को तौच भि नहि किया है पर मेरा मन बहुत होता है कि किसि लदकि को किस्स करून। तब मेने चचि को कहा कि चचि आप मुझे बहुत हि अछहि लगति है पलज़ कया मेन आप को सिरफ़ एक किस्स कर दून।
पेहले तो चचि ने कहा कि नहि तुम मेरे बेते जैसे हो येह काम गलत है तुम कोइ गिरलफ़रेनद बनओ फिर उसके साथ किस्स करमा। मेने कहा चचि पलज़ सिरफ़ एक बार किस्स करने दिजिये पलज़ किसि को पता नहि चलेगा। पेहले मना करने के बाद चचि ने कहा देख किसि को बतना मत और सिरफ़ एक बार हि किस्स करेगा । मेने कहा थीक है उस समेय चचि ने बलुए सोलौर कि सरी पेहनि थि और सरी इतने तिघत पेहनि थि कि उनके बूबस और भि बदे बदे लग रहे थेय। चचि आपनि आनख बनद कर कर मेरे पास बेथ गये और कहा देख कुच शररत नहि करेगा और सिरफ़ एक किस्स करेगा । मेने उनके हूतूओन पर किस्स करना शूरु किया उनके पुरी हूतूओन को मेने मेरे मुह मे ले लिया और चूसने लगा ।चचि ने कहा बस अब बनद कर दे मैने कहा चचि आज नहि रुख सकता और मेन उनको बेद पर धखा दे दिया मेन उनकि पेत के उप्पेर बेथ गया और उनके गाल पर किस्स करना शुरू कर दिया थोदि देर तो चचि ने मना किया पर एक दम शानत हो गये, मेन उनको लगातर किस्स कर रहा था ।
फिर मेने उनकि सारि हतरि मेरे समने उनके बदे बदे बूबस सिरफ़ बलौसे मेन थेय मेने उनका बलौसे खोलना शुरु किया एक एक कर के मेने सारे हूक खूल दिये अब वोह सिरफ़ बरा और पेत्तिसोअत मेन थि उनकि बरा को खोलने के बाद मेने उनके बूबस को जोर जोर से दबना शुरू कर दिया वहो जतपता रहि थि कयोनकि उनको दरद हो रहा था बाद मेन मेने उनके पेत पर बहुत से किस्स दिये और उनकि चूओचि को अपने मुह मे रख कर चूसने लगा । बाद मेन मेने उनके पेत्तिसोअत का नदा खोल दिया वोह पिसक सोलौर कि पेनती मेन थि मेने उनकि पेनती उतार दि उनकि चूत पर थोदे से बाल थेय। चचि ने मेरा मुह उनके चूत के पास लगा दिया मेन उनकि चूओत को चूसने लगा चचि मचल रहि थि उनकि चूत कि खुशबू भि शनदर थि । थोदि देर चूसने के बाद मेने अपना लुनद चचि कि चूत मेन दलना शुरू किया।
चहि को दरद हो रहा था पर वोह कह रहि थि कि जलदि से दाल दे परवीन मेने चचि कि कमर के नीचे तकिअ लगया और उनहोने आपनि तानगे मेरे खनदे पर रख दि मेन धीरे धीरे उनकि चूत मेन मेरा लुनद दालने लगा कुच हि देर मेन मेरा पुरा लुनद उनकि गोरि चुत मे घूस गया चचि चील्ला उथि आआआआअ00000000000ऊओ पलज़ परवीन थोदा धिरे धिरे करो मेन मर जओइनगि पलज़ धीरे लेकिन मेन जोर जोर से धके मरने लगा उनके अवज़ ;अगता निकल रहि थि उम्मम्मम्मम्मम्मम आआआआऊऊ हुम लोगो ने करीब 1 हौरस सेक्स किया बाद मेने आपना रस उनकि चूत मे हि दाल दिया ।
सेक्स करने के बाद चचि का मुह एक दुम लल हो गया था उनके आनखू मेन से आनसू निकल रहे थेय मेने उनको पयार से किस्स किया और कहा चचि आज तो आपने मुझे नया जीवेन दिया है चचि ने कहा पलज़ किसि से इस बाअत के बरे मे नहि बतना । फिर चचि ने आपने कपदे पेहने और नहने चलि गये । मेन भि आपने घर चला गया और दूसरे दिन उनसले भि आ गये उस दिन के बाद मेने उनके साथ सेक्स करने के लिया उनको कहा पर चचि जि ने मना कर दिया और आज तक मेने उनके साथ सेक्स नहिन किया है।
हजारों कहानियाँ हैं अन्तर्वासना डॉट कॉम पर !

शीला और पंडितजी

एक लदकि है शीला, बिलकुल सीधी सादि, भोलि-भालि, भगवन मेन बहुत विशवास रकने वालि। उनफ़ोरतुनतेली, शादि के 1 साल बाद हि उसके पति का ससूतेर अस्सिदेनत हो गया और वो ऊपर चला गया। तब से शीला अपने पपा-मुम्मी के साथ रेहने लगि। अभि उसका कोइ बच्चा नहिन था।उसकि अगे 24 थी। उसके पपा मुम्मी ने उसेह दूसरि शादि के लिये कहा, लेकिन शीला ने फिलहाल मना कर दिया था। वो अभि अपने पति को नहिन भुला पयी थी, जिसेह ऊपर गये हुए आज 6 महीने हो गये थेह।
शीला फयसिसल अप्पेअरनसे मेन कोइ बहुत ज़यादा अत्तरसतिवे नहिन थी, लेकिन उसकि सूरत बहुत भोलि थी, वेह खुद भि बहुत भोलि थी, ज़यादा तिमे चुप हि रेहती थी। उसकि हेघत लगभग 5 फ़ूत 4 इनच थी, सोमपलेक्सिओन फ़ैर था, बाल काफ़ि लमबे थेह, फ़से रौनद था। उसके बूबस इनदिअन औरतोन जैसे बदे थेह, कमर लगभग 31-32 इनच थी, हिपस रौनद और बदे थेह, येह हि कोइ 37 इनच।
वो हमेशा वहिते हा फिर बहुत लिघत सोलोर कि सारि पेहेनति थी। उसके पपा सरकारि दुफ़तर मेन काम करते थेह। उनका हाल हि मेन दूसरे शहर मेन त्रनसफ़ेर हुअ था। नये शहर मेन आकर शीला कि मुम्मी ने भि एक सचूल मेन तेअचेर कि जोब ले लि। शीला का कोइ भै नहिन था और उसकि बदि बेहन कि शादि 6 साल पेहले हो गयी थी। नये शहर मेन आकर उनका घर चोति सि सोलोनी मेन था जो के शहर से थोदि दूर थी। रोज़ सुबेह शीला के पपा अपने दुफ़तर और उसकि मुम्मी सचूल चले जाते थेह। पपा शाम 6 बजे और मुम्मी 4 बजे वपस आती थी।
उनके घर के पस्स हि एक चोता सा मनदिर था। मनदिर मेन एक पनदित था, येह हि कोइ 36 साल का। देखने मेन गोरा और बोदी भि मुससुलर, हेघत 5 फ़ूत 9 इनच। सूरत भि थीक थाक थी। बाल बहुत चोते चोते थेह। मनदिर मेन उसके अलावा और कोइ ना था। मनदिर मेन हि बिलकुल पीचे उसका कमरा था। मनदिर के मुखेह दवार के अलावा पनदित के कमरे से भि एक दरवज़ा सोलोनी कि पिचलि गलि मेन जता था। वो गलि हमेशा सुन सान हि रेहती थी कयुनकि उस गलि मेन अभि कोइ घर नहिन था। नये शहर मेन आकर, शीला कि मुम्मी ने उसेह बतया कि पास मेन एक मनदिर है, उसेह पूजा करनि हो तोह वहन चले जाया करे। शीला बहुत धारमिस थी। पुजा पाथ मेन बहुत विशवास था उसका। रोज़ सुबेह 5 बजे उथ कर वो मनदिर जाने लगि।
पनदित को किसि ने बतया था एक पास मेन हि कोइ नयी फ़मिली आयी है और जिनकि 24 साल कि बेति विधवा है। शीला पेहले दिन मनदिर गयी। सुबेह 5 बजे मनदिर मेन और कोइ ना था।।।सिरफ़ पनदित था। शीला ने वहिते सारि बलौसे पेहेन रखा था। शीला पुजा करने के बाद पनदित के पास आयी।।।उसने पनदित के पेर चुये
पनदित: जीति रहो पुत्रि।।।।।तुम यहन नयी आयी हो ना।।?
शीला: जि पनदितजि
पनदित: पुत्रि।।तुमहरा नाम कया है?
शीला: जि, शीला
पनदित: तुमहारे माथेह (फ़ोरेहेअद) कि लकीरोन ने मुझे बता दिया है कि तुम पर कया दुख आया है।।।।।लेकिन पुत्रि।।।भगवान के आगे किसकि चलति है
शीला: पनदितजि।।मेरा ईशवर मेन अतूत विशवास है।।।।।लेकिन फिर भि उसने मुझसे मेरा सुहाग चीन लिया।।।
शीला कि आनखोन मेन आसून आ गये
पनदित: पुत्रि।।।।ईशवर ने जिसकि जितनि लिखि है।।वेह उतना हि जीता है।।इसमेन हुम तुम कुच नहिन कर सकते।।।उसकि मरज़ी के आगे हुमारि नहिन चल सकति।।कयुनकि वो सरवोछ है।।इसलिये उसके निरनेय (देसिसिओन) को सवीकर करने मेन हि समजदरि है।
शीला आसून पोनच कर बोलि
शीला: मुझे हर पल उनकि याद आति है।।।ऐसा लगता है जैसे वो यहिन कहिन हैन।।
पनदित: पुत्रि।।।तुम जैसी धारमिस और ईशवर मेन विशवास रखने वालि का खयल ईशवर खुद रखता है।।।कभि कभि वो इमतेहान भि लेता है।।।।
शीला: पनदितजि।।।जब मैन अकेलि होति हून।।तोह मुझे दर्र सा लगता है।।पता नहिन कयुन
पनदित: तुमहारे घर मेन और कोइ नहिन है?
शीला: हैन।।पपा मुम्मी।।।।लेकिन सुबेह सुबेह हि पपा अपने दुफ़तर और मुम्मी सचूल चलि जाति हैन।।।फिर मुम्मी 4 बजे आति हैन।।।।।।।इस्स दौरान मैन अकेलि रेहती हून और मुझे बहुत दर्र सा लगता है।।।ऐसा कयुन है पनदितजि?
पनदित: पुत्रि।।।तुमहारे पति के सवरगवास के बाद तुमने हवन तोह करवया था ना।।?
शीला: नहिन।।।।कैसा हवन पनदितजि?
पनदित: तुमहारे पति कि अतमा कि शानति के लिये।।।येह बहुत आवशयक होता है।।
शीला: हुमेन किसि ने बतया नहिन पनदितजि।।।।
पनदित: यदि तुमहारे पति कि अतमा को शानति नहिन मिलेगि तोह वो तुमहारे आस पास भतकति रहेगि।।।और इसिलिये तुमहेन अकेले मेन दर्र लगता है।।
शीला: पनदितजि।।।आप ईशवर के बहुत पास हैन।।।करिपया आप कुच किजिये जिस्से मेरे पति कि अतमा को शानति मिलेह
शीला ने पनदित के पेर पकद लिये और अपना सिर उसके पेरोन मेन झुका दिया।।।।इस्स पोसितिओन मेन शीला के बलौसे के नीचे उसकि ननगि पीथ दिख रही थी।।।पनदित की नज़र उसकि ननगि पीथ पर पदि तोह।।।उसने सोचा येह तोह विधवा है।।।और भोलि भि।।।इसके साथ कुच करने का ससोपे है।।।।।।।।उसने शीला के सिर पे हाथ रखा।।
पनदित: पुत्रि।।।।यदि जैसा मैन कहून तुम वैसा करो तोह तुमहारे पति कि अतमा को शानति आवशया मिलेगि।।
शीला ने सिर उथया और हाथ जोदतेह हुए कहा
शीला: पनदितजि, आप जैसा भि कहेनगे मैन वैसा करूनगि।।।आप बतैये कया करना होगा।।
शीला कि नज़रोन मेन पनदित भि भगवान का रूप थेह
पनदित: पुत्रि।।।हवन करना होगा।।।हवन कुच दिन तक रोज़ करना होगा।।।।।लेकिन वेदोन के अनुसार इस्स हवन मेन केवल सवरगवासि कि पतनि और पनदित हि भाग ले सकते हैन।।।और किसि तीसरे को खबर भि नहिन होनि चाहिये।।।अगर हवन शुरु होने के पशचात किसि को खबर हो गयी तोह सवरगवासि कि अतमा को शानति कभि नहिन मिलेगि।।
शीला: पनदितजि।।आप हि हमारे गुरु हैन।।।।आप जैसा कहेनगे हुम वैसा हि करेनगे।।।।।आग-या दिजिये कब से शुरु करना है।।।और कया कया सामगरि चहिये
पनदित: वेदोन के अनुसार इस्स हवन के लिये सारि सामगरि शुध हाथोन मेन हि रेहनी चाहिये।।।अतेह।।सारि सामगरि का परबनध मैन खुद हि करूनगा।।।तुम सिरफ़ एक नारियल और तुलसि लेति आना
शीला: तोह पनदितजि, शुरु कबसे करना है।।
पनदित: कयुनकि इस्स हवन मेन केवल सवरगवासि कि पतनि और पनदित हि होते हैन।।।इसलिये येह हवन उस्स समय होगा जब कोइ विघन (दिसतुरब) ना करे।।।और हवन पवित्रा सथान पर होता है।।।जैसे कि मनदिर।।।परनतु।।।यहन तोह कोइ भि विघन दाल सकता है।।।इसलिये हुम हवन इसि मनदिर के पीचे मेरे कक्ष (रूम) मेन करेनगे।।।इस्स तरह सथान भि पवित्रा रहेगा और और कोइ विघन भि नहिन दालेगा।।
शीला: पनदितजि।।।जैसा आप कहेन।।।।किस समय करना है?
पनदित: दुफेर 12:30 बजे से लेकर 4 बजे तक मनदिर बनद रेहता है।।।।।।सो इस्स समय मेन हि हवन शानति पूरवक हो सकता है।।तुम आज 12:45 बजे आ जाना।।नारियल और तुलसि लेके।।।।।लेकिन सामनेह का दवार बनद होगा।।।।।आओ मैन तुमहेन एक दूसरा दवार दिखता हून जो कि मैन अपने परिये भकतोन को हि दिखाता हून।।
पनदित उथा और शीला भि उसके पीचे पीचे चल दि।।उसने शीला को अपने कमरे मेन से एक दरवज़ा दिखया जो कि एक सुनसान गलि मेन निकलता था।।।।उसने गलि मेन ले जाकर शीला को आने का पूरा रासता समझा दिया।।
पनदित: पुत्रि तुम रासता तोह समझ गयी ना।।
शीला: जि पनदितजि।।
पनदित: येह याद रखना कि येह हवन गुपत रेहना चाहिये।।।सबसे।।।वरना तुमहारे पति कि अतमा को शानति कभि ना मिल पायेगि।।
शीला: पनदितजि।।।आप मेरे गुरु हैन।।आप जैसा कहेनगे।।मैन वैसा हि करूनगि।।।मैन थीक 12:45 बजे आ जाओनगि
थीक 12:45 पर शीला पनदित के बतये हुए रासते से उसके कमरे के दरवाज़े पे गयी और खत खताया।।
पनदित: आओ पुत्रि।।।
शीला ने पेहले पनदित के पेर चुये
पनदित: किसि को खबर नो नहिन हुइ।।
शीला: नहिन पनदितजि।।।मेरे पपा मुम्मी जा चुके हैन।।।और जो रासता अपने बताया था मैन उस्सि रासते से आयी हून।।।किसि ने नहिन देखा।।
पनदित ने दरवज़ा बनद किया
पनदित: चलो फिर हवन आरमभ करेन
पनदित का कमरा ज़यादा बदा ना था।।।उसमेन एक खात था।।।बदा शीशा था।।।कमरे मेन सिरफ़ एक 40 वत्त का बुलब हि जल रहा था।।।पनदित ने तयपिसल सतयले मेन हवन के लिये आग जलायी।।।और सामगरि लेके दोनो आग के पास बैथ गये।।।
पनदित मनत्रा बोलने लगा।।।शीला ने वहि सुबेह वाला सारि बलौसे पहेना था
पनदित: येह पान का पता दोनो हाथोन मेन लो।।।
शीला और पनदित साथ साथ बैथे थेह।।दोनो चौकदि मार के बैथे थेह।।।दोनो कि तानगेन एक दूसरे को तौच कर रहि थी।।
शीला ने दोनो हाथ आगे कर के पान का पता ले लिया।।।।।।।।पनदित ने फिर उस पतेह मेन थोदे चावल दाले।।।फिर थोदि चीने।।।।फिर थोदा दूध।।।।।।।।।।।।।।।।।।।फिर उसने शीला से कहा।।
पनदित: पुत्रि।।।।अब तुम अपने हाथ मेरे हाथ मेन रखोन।।।।मैन मनत्रा पदूनगा और तुम अपने पति का धयान करना।।
शीला ने अपने हाथ पनदित के हाथोन मिएन रख दिये।।।।येह उनका पेहला सकिन तो सकिन सोनतसत था।।
पनदित: वेदोन के अनुसार।।।।।तुमेहन येह केहना होगा के तुम अपने पति से बहुत परेम करति हो।।।।।जो मैन कहून मेरे पीचे पीचे बोलना
शीला: जि पनदितजि
शीला के हाथ पनदित के हाथ मेन थेह
पनदित: मैन अपने पति से बहुत परेम करति हून
शीला: मैन अपने पति से बहुत परेम करति हून
पनदित: मैन उन पर अपना तन और मन नयोचावर करति हून
शीला: मैन उन पर अपना तन और मन नयोचावर करति हून
पनदित: अब पान का पता मेरे साथ अगनि मेन दाल दो
दोनो ने हाथ मेन हाथ लेके पान का पता आग मेन दाल दिया
पनदित: वेदोन के अनुसार।।।अब मैन तुमहारे चरन धौनगा।।।अपने चरन यहन सिदे मेन करो।।
शीला ने अपने पेर सिदे मेन किये।।।पनदित ने एक गिलास मैन से थोदा पनि हाथ मेन भरा और शीला के पेरोन को अपने हाथोन से धोने लगा।।।।।
पनदित: तुम अपने पति का धयान करो।।
पनदित मनत्रा पदने लगा।।।शीला आनखेन बनद करके पति का धयान करने लगि।।।।।
शीला इस्स वकत तानगेन ऊपर कि तरफ़ मोद के बैथी थी।।
पनदित ने उसके पेर थोदे से उथाये अनद हाथोन मेन लेकर पेर धोनेह लगा।। ?
तानग उथनेह से शीला कि सारि के अनदर का नज़रा दिखनेह लगा?।उसकि थिघस दिख रहि थी?।और सारि के अनदर के अनधेरे मेन हलकि हलकि उसकि वहिते कच्चि भि दिख रहि थी?।।लेकिन शीला कि आनखेन बनद थी?।वो तोह अपने पति का धयान कर रहि थी?।और पनदित का धयान उसकि सारि के अनदर के नज़ारे पे था?।पनदित के मूह मेन पानि आ रहा था।।लेकिन वो इसका रपे करने से दरता था।।।।सो उसने सोचा लदकि को गरम किया जाये।।। पेर धोनेह के बाद कुच देर उसने मनतर पदे।। पनदित: पुत्रि।।।।आज इतना हि काफ़ि है।।।असलि पुजा कल से शुरु होगि।।।।तुमहेन भगवान शिव को परसन्न करना है।।।।।वो परसन्न होनगे तभि तुमहारे पति कि अतमा को शानति मिलेगि।।।।अब तुम कल आना।।
शीला: जो आगया पनदितजि।।
अगलेह दिन।।
पनदित: आओ पुत्रि।।।।।तुमहेन किसि ने देखा तोह नहिन।।।अगर कोइ देख लेगा तोह तुमहारि पुजा का कोइ लाभ नहिन।।
शीला: नहिन पनदितजि।।।किसि ने नहिन देखा।।।आप मुझे आगया दे।।
पनदित: वेदोन के अनुसार।।।।।तुमहेन भगवान शिव को परसन्न करना है।।
शीला: पनदितजि।।।वैसे तोह सभि भगवान बरबर हैन।।।लेकिन पता नहिन कयुन।।भगवान शिव के परति मेरि शरधा ज़यादा है।।
पनदित: अच्चि बात है।।।।।पुत्रि।।शिव को परसन्न करने के लिये तुमहेन पूरि तरह शुध होना होगा।।।।सबसे पेहले तुमहेन कच्चे दूध का सनान करना होगा।।।।।।शुध वसत्रा पेहेनेह होनगे।।।और थोदा शरिनगार करना होगा।।
शीला: शरिनगार पनदितजि।।
पनदित: हान।।।।।।शिव सत्रि- परिये (वोमन लोविनग) हैन।।।सुनदर सत्रियान उनहे भाति हैन।।।युन तोह हर सत्रि उनके लिये सुनदर है।।।लेकिन शरिनगार करने से उसकि सुनदरता बध जाति है।।।।जब भि परवति ने शिव को मनाना होता है।।।तोह वेह भि शरिनगार करके उनके सामने आति हैन।।
शीला: लेकिन पनदितजि।।।कया एक विधवा का शरिनगार करना सहि रहेगा।।।।?
पनदित: पुत्रि।।।शिव के लिये कोइ भि काम किया जा सकता है।।।।विधवा तोह तुम इस्स समाज के लिये हो।।।
शीला: जो आगया पनदितजि।।।
पनदित: अब तुम सनान-गरेह (बथरूम) मेन जा के कच्चे दूध का सनान करो।।।मैनेह वहन पर कच्चा दूध रख दिया है कयुनकि तुमहारे लिये कचसा दूध घर से लना मुशकिल है।।।।।।।और हान।।।तुमहारे वसत्रा भि सनान-गरेह मेन हि रखेन हैन।।
पनदित ने ओरनगे सोलोर का बलौसे और पेत्तिसोअत बथरूम मेन रखा था।।।पनदित ने बलौसे के हूक निकाल दिये थेह।।हूकस पीथ कि सिदे पे थेह।।।(अस सोमपरेद तो थे हूकस रिघत इन फ़रोनत ओफ़ बूबस)
शीला दूध से नहा कर आयि।।।।।सिरफ़ बलौसे और पेत्तिसोअत मेन उसेह पनदित के सामने शरम आ रहि थी।।
शीला: पनदितजि।।।।।
पनदित: आ गयि।।
शीला: पनदितजि।।।।मुझे इन वसत्रोन मेन शरम आ रहि है।।।
पनदित: नहिन पुत्रि।।।ऐसा ना बोलो।।।।शिव नराज़ हो जायेगा।।।।येह जोगिया वसत्रा शुध हैन।।।।यदि तुम शुध नहिन होगि तोह शिव परसन्न कदपि नहिन होनगे।।।
शीला: लेकिन पनदितजि।।इस्स।।।स्स।।।।ब।।बलौसे के हूकस नहिन हैन।।।
पनदित: ओह!।।।मैनेह देखा हि नहिन।।।वैसे तोह पुजा केवल दो घनते कि हि है।।।लेकिन यदि तुम बलौसे के कारन पुजा नहिन कर सकति को हुम कल से पुजा कर लेनगे।।।।लेकिन शयद शिव को येह विलमभ (देलय) अच्चा ना लगे।।
शीला: नहिन पनदितजि।।।।पुजा शुरु किजिये।।
पनदित: पेहले तुम उस्स शीशे पे जाकर शरिनगार कर लो।।।शरिनगार कि समगरि वहिन है।।
शीला ने लाल लिपसतिसक लगायि।।।।थोदा रूज़।।।।और थोदा पेरफ़ुमे।।।
शरिनगार करके वो पनदित के पास आयी।।
पनदित: अति सुनदर।।।।।पुत्रि।।।तुम बहुत सुनदर लग रहि हो।।।
शीला शरमाने लगि।।।।येह फ़ीलिनगस उसने पेहलि बार एक्सपेरिएनसे कि थी।।।
पनदित: आओ पुजा शुरु करेन।।।
वो दोनो अगनि के पास बैथ गये।।।।पनदित ने मनत्रा पदनेह शुरु किये।।।।
थोदि गरमि हो गयी थी इसलिये पनदित ने अपना कुरता उतार दिया।।।।।।।उनसे शीला को अत्तरसत करने के लिये अपनि चेसत पूरि शवे कर लि थी।।।।उसकि बोदी मुससुलर थी।।।।।अब वो केवल लुनगि मेन था।।। शीला थोदा और शरमाने लगि।। दोनो चौकदि मार के बैथे थेह।।
पनदित: पुत्रि।।।।येह नारियल अपनि झोलि मेन रखलो।।।इसे तुम परसद समझो।।।।।।तुम दोनो हाथ सिर के ऊपर से जोद के शिव का दयान करो।।।।
शीला सिर के ऊपर से हाथ जोद के बैथी थी।।।।पनदित उसकि झोलि मेन फ़ल (फ़रुइतस) दलता रहा।।।
शीला कि इस्स पोसितिओन मेन उसके बूबस और ननगा पेत पनदित के लौरे को सकत कर रहे थेह।।।
शीला कि नवेल भि पनदित को साफ़ दिख रहि थी।।।।
पनदित: शीला।।।।पुत्रि।।।येह मौलि (थरेअद) तुमहेन पेत पे बानधनि है।।।।वेदोन के अनुसार इसे पनदित को बानधना चहिये।।।।लेकिन यदि तुमहेन इसमेन लज्जा कि वजह से कोइ आपत्ति हो तोह तुम खुद बानध लो।।।परनतु विधि तोह यहि है कि इसे पनदित बानधे।।।कयुनकि पनदित के हाथ शुध होते हैन।।जैसे तुमहारि इच्चा।।
शीला: पनदितजि।।।।।वेदोन का पलन करना मेरा धरम है।।।।जैसा वेदोन मेन लिखा है आप वैसा हि किजिये।।।
पनदित: मौलि बानधने से पेहले गनगजल से वो जगह साफ़ करनि होति है।।।।
पनदित ने शीला के पेत पे गनगजल चिद-का।।।और उसका ननगा पेत गनगजल से धोनेह लगा।।।।शीला कि पेत कि सकिन (लिके मोसत वोमेन) बहुत समूथ थी।।।।पनदित उसके पेत को रगद रहा था।।।फिर उसनेह तौलिये (तोवेल) से शीला का पेत सुखाया।।।
शीला के हाथ सिर के ऊपर थेह।।।।।पनदित शीला के सामनेह बैथ कर उसके पेत पे मौलि बानधने लगा।।।पेहलि बार पनदित ने शीला के ननगे पेत को चुआ।।।।
कनोत बानधते समय पनदित ने अपनि उनगलि शीला के नवेल पे रखि।।।।।
अब पनदित ने उनगलि पे तिक्का (रेद विससौस लिकुइद वहिच इस सुप्पोसेद ससरेद) लगया।।।
पनदित: शीला।।।।शिव को परवति कि देह (बोदी) पे चित्रकारि करने मेन अननद आता है।।।।
येह केह कर पनदित शीला के पेत पे तिक्का लगाने लगा।।।उसने शीला के पेत पर त्रिशूल बनया।।।।।
शीला कि नवेल पर आ कर पनदित रुक गया।।।अब अपनि उनगलि उसकि नवेल मेन घुमाने लगा।।।वेह शीला कि नवेल मेन तिक्का लगा रहा था।।शीला के दोनो हाथ ऊपर थेह।।।।वेह भोलि थी।।।।।।।वेह इन सब चीज़ोन को धरम समझ रहि थी।।।।।लेकिन येह सब उसेह भि कुच कुच अच्चा लग रहा था।।।। फिर पनदित घूम कर शीला के पीचे आया।।।।।उसनेह शीला कि पीथ पर गनगजल चिद-का और हाथ से उसकि पीथ पे गनगजल लगाने लगा।।
पनदित: गनगजल से तुमहारि देह और शुध हो जायेगि, कयुनकि गनगा शिव कि जता से निकल रहि है इसलिये गनगजल लगाने से शिव परसन्न होते हैन।।
शीला के बलौसे के हूकस नहिन थेह।।।।पनदित ने खुलेय हुए हूकस को और सिदे मेन कर दिया।।।।शीला कि अलमोसत सारि पीथ ननगि होगयी।।।पनदित उसकि ननगि पीथ पर गनगजल दाल के रगद रहा था।।वो उसकि ननगि पीथ अपने हाथोन से धो रहा रथा।।।।।शीला कि ननगि पीथ को चूकर पनदित का लौरा तिघत हो गया था।।।
पनदित: तुमहारि राशी कया है।।?
शीला: कुमभ।।
पनदित: मैन तिक्के से तुमहारि पीथ पर तुमहारि राशी लिख रहा हून।।।गनगजल से शुध हुइ तुमहारि पीथ पे तुमहारि राशी लिखनेह से तुमहारे गरेहोन कि दिशा लाभदयक हो जायेगि।।
पनदित ने शीला कि ननगि पीथ पे तिक्के से कुमभ लिखा।।।
फिर पनदित शीला के पैरोन के पास आया।।
पनदित: अब अपनेय चरन सामनेय करो।।
शीला ने पेर सामनेय कर दिये।।।पनदित ने उसका पत्तिसोअत थोदा ऊपर चदया।।।।।उसकि तानगोन पे गनगजल चिद-का।।।।और उसकि तानगेन हाथोन से रगदनेह लगा।।
पनदित: हुमारेह चरन बहुत सी अपवित्रा जगाहोन पर पदते हैन।।गनगजल से धोनेह के पशचात अपवित्रा जगहोन का हुम पर कोइ परभाव नहिन पदता।।।।तुम शिव का धयान करो।।
शीला: जि पनदितजि।।
पनदित: शीला।।।यदि तुमहेन येह सब करने मेन लज्जा आ रहि तोह।।।।येह तुम सवयम कर लो।।।परनतु वेदोन के अनुसार येह कार-येह पनदित को हि करना चाहिये।।
शीला: नहिन पनदितजि।।।यदि हुम वेदोन के अनुसार नहिन चले तोह शिव कभि परसन्न नहिन होनगे।।।।।और भगवान के कार-येह मेन लज्जा कैसि ।।?।।
शीला अनधविशवासि थी।।
पनदित ने शीला का पेत्तिसोअत घुतनो के ऊपर चदा दिया।।।अब शीला कि तानगेन थिघस तक ननगि थी।।।
पनदित ने उसकि थिघस पे गनगजल लगया और उसकि थिघस हाथोन से धोनेह लगा।।।शीला ने शरम से तानगेन जोद रखि थी।।।
पनदित ने कहा।।
पनदित: शीला।।।अपनि तानगेन खोलो।।
शीला ने धीरे धीरे अपनि तानगेन खोल दि।।।।।अब शीला पनदित के सामनेय तानगेन खोल के बैथी थी।।।उसकि बलसक कच्चि पनदित को साफ़ दिख रहि थी।।।।पनदित ने शीला कि इन्नेर थिघस को चुअ।।।और उनेह गनगजल से रगनेह लगा।।।।।
इस्स वकत पनदित के हाथ शीला के चूत के नज़दीक थेह।।।।।कुच देर शीला के औतेर और इन्नेर थिघस धोनेह के बाद अब वो उनेह तौलिये से सुखानेह लगा।।।।।।।।फिर उसनेह उनगलि मेन तिक्का लगाया और शीला के इन्नेर थिघस पे लगानेह लगा।।
शीला: पनदितजि।।।यहन भि तिक्का लगाना होता।है।।।(शीला शरमातेह हुए बोलि, वो उनसोमफ़ोरतबले फ़ील कर रही थी)
पनदित: हान।।।।यहन शिवलिनग बनाना होता है।।
शीला तानगेन खोल के बैथी थी और पनदित उसकि इन्नेर जानघोन पे उनगलियोन से शिवलिनग बना रहा था।।
पनदित: शीला।।।लज्जा ना करना।।
शीला: नहिन पनदितजि।।
जैसे उनगलि से माथेह (फ़ोरेहेअद) पर तिक्का लगातेह हैन।।।।पनदित कच्चि के ऊपर से हि शीला कि चूत पे भि तिक्का लगानेह लगा।।।।शीला शरम से लाल हो रहि थी।।।लेकिन गरम भि हो रहि थी।।।पनदित तिक्का लगानेह के बहानेह 5-6 सेसोनदस तक कच्चि के ऊपर से शीला कि चूत रगदता रहा।।।
चूत से हाथ हतानेह के बाद पनदित बोला।।।
पनदित: विधि के अनुसार मुझे भि गनगजल लगाना होगा।।।अब तुम इस्स गनगजल को मेरि चाति पे लगाओ।।
पनदित लेत गया।।।
शीला: जि पनदितजि।।।
पनदित ने चेसत शवे कर रखि थी।।।और पेत भि।।।उसकि चेसत और पेत बिलकुल हैरलेस्स और समूथ थेह।।।शीला गनगजल से पनदिर कि चेसत और पेत रगदनेह लगि।।।।।शीला को अनदर हि अनदर पनदित का बदन अत्तरसत कर रहा था।।।उसके मन मेन आया कि कितना समूथ और चिकना है पनदित का बदन।।ऐसे खयल शीला के मन मेन पेहले कभि नहिन आये थेह।।
पनदित: अब तुम मेरि चाति पे तिक्के से गदेश बना दो।।।।।गदेश इस्स परकार बन्ना चाहियेह कि मेरे येह दोनो निप्पलेस गदेश के ऊपर के दोनो खानो कि बिनदुयेन हो।।
निप्पलेस का नाम सुन कर शीला शरमा गयी।।।
शीला ने गदेश बनाया।।।।लेकिन उसनेय सिरफ़ गदेश के नीचे के दो खानो कि बिनदुयेन हि बनायी तिक्के से।।
पनदित: शीला।।।।गदेश मेन चार बिनदुयेन दलति हैन।।
शीला: पनदितजि।।।लेकिन ऊपर कि दो बिनदुयेन तोह पेहले से हि बनि हुइ हैन।।
पनदित: परनतु तिक्का उन पर भि लगेगा।।
शीला पनदित के निप्पलेस पर तिक्का लगानेह लगि।।।
पनदित: मनव कि धुन्नि उसकि ऊरजा का सत्रोत (सौरसे) होति है।।।अतेह यहन भि तिक्का लगाओ।।।
शीला: जो आगया पनदितजि।।
शीला ने उनगलि मेन तिक्का लगाया।।।।पनदित कि नवेल मेन उनगलि दालि।।।और तिका लगानेह लगि।।।।।पनदित ने शीला को अत्तरसत करने के लिये अपना पेत और चेसत शवे करने के साथ साथ अपनि नवेल मेन थोदि सरेअम लगायि थी।।।इसलिये उसकि नवेल चिकनि हो गयी थी।।।।।शीला सोच रही थी कि इतनि चिकनि नवेल तोह उसकि खुद कि भि नहिन है।।।।शीला पनदित के बदन कि तरफ़ खिचि चलि जा रहि थी।।।।ऐसे थौघतस उसके मन मैन पेहले कभि नहिन आये थेह।।।
शीला ने पनदित कि नवेल मेन से अपनि उनगलि निकालि।।।पनदित ने अपनेय थेयलेह से एक लौरे कि शपे कि लकदि निकालि।।।।।लकदि बिलकुल वेल्ल पोलिशेद थी।।।।5 इनच लमबि और 1 इनच मोति थी।।।
लकदि के एनद मेन एक चेद था।।।पनदित ने उस्स चेद मेन दाल कर मौलि बानदि।।।
पनदित: येह लो।।।येह शिवलिनग है।।।
शीला ने शिवलिनग को परनाम किया।।
पनदित: इस्स शिवलिनग को अपनि कमर मेन बानध लो।।।।।येह हमेशा तुमहारे सामनेय आना चाहिये।।।तुमहारे पेत के नीचे।।।
शीला: पनदितजि।।।इस्से कया होगा।।?
पनदित: इस्स से शिव तुमहारे साथ रहेगा।।।।यदि किसि और ने इस्से देख लिया तोह शिव नराज़ हो जायेगा।।।अतेह।।येह किसि को दिखाना या बताना नहिन।।।।।और तुमहेन हर समय येह बानधेह रखना है।।।।।।।सोतेह समय भि।।।।
शीला: जैसा आप कहेन पनदितजि।।।
पनदित: लाओ।।।मैन बानध दू।।
दोनो खदेह हो गये।।।पनदित ने वो शिवलिनग शीला कि कमर मेन दाला और उसके पीचे आ कर मौलि कि गानथ बानधनेह लगा।।।उसके हाथ शीला कि ननगि कमर को चू रहे थेह।।।गानथ लगानेह के बाद पनदित बोला।।
पनदित: अब इस्स शिवलिनग को अनदर दाल लो।।
शीला ने शिवलिनग को अपनेह पेत्तिसोअत के अनदर कर लिया।।।।शिवलिनग शीला कि तानगोन के बीच मेन आ रहा था।।।
पनदित: बुस।।।अब तुम वसत्रा बदल कर घर जा सकति हो।।।जो तिक्का मैनेह लगाया है उसेह ना हताना।।।चाहे तोह घर जा कर सारि उतार के सलवार कमीएज़ पेहेन लेना।।।।।जिस्से कि तुमहारे देह पर लगा तिक्का किसि को दिखे ना।।।
शीला: परनतु सनान करतेह समय तोह तिक्का हत जायेगा।।।
पनदित: उसकि कोइ बात नहिन।।।।
शीला कपदे बदल कर अपनेय घर आ गयी।।।।।उसनेह तानगोन के बीच शिवलिनग पेहन रखा था।।।पूरे दिन वेह तानगोन के बीच शिवलिनग लेके चलति फिरति रही।।।।शिवलिनग उसकि तानगोन के बीच हिलता रहा।।।उसकि सकिन को तौच करता रहा।।।।
रात को सोतेह वकत शीला कच्चि नहिन पेहेनति थी।।।।।जब रात को शीला सोनेह के लिये लेति हुइ थी तोह शिवलिनग शीला कि चूत के दिरेसत सोनतसत मेन था।।।शीला शिवलिनग को दोनो तानगेन तिघतली जोद के दबानेह लगि।।।उसेह अच्चा लग रहा था।।।उसेह अपनेह पति के लिनग (पेनिस) कि भि याद आ रही थी।।।।।।उसनेह सलवार का नादा खोला।।।शिवलिनग को हाथ मेन लिया और शिवलिनग को हलके हलके अपनि चूत पे दबानेह लगि।।।।फिर शिवलिनग को अपनि चूत पे रगदनेह लगि।।।।वेह गरम हो रहि थी।।।।।।तभि उसेह खयाल आया "शीला, येह तु कया कर रहि है।।।।।शिवलिनग के साथ ऐसा करना बहुत पाप है।।।।"।।।।।येह सोच कर शीला ने शिवलिनग से हाथ हता लिया।।।।।सलवार का नादा बानधा और सोनेह कि कोशिश करनेह लगि।।।।
तकरीबन आधी रात को शीला कि आनख खुलि।।।।उसेह अपनी हिपस के बीच मेन कुच चुभ रहा था।।।।उसनेह सलवार का नादा खोला।।।।हाथ हिपस के बीच मेन ले गयी।।।।तोह पाया कि शिवलिनग उसकि हिपस के बीच मेन फ़सान हुअ था।।।शिवलिनग का मूनह शीला के अस्सहोले से चिपका हुअ था।।।।शीला को पीचे से येह चुभन अच्चि लग रही थी।।।।उसनेह शिवलिनग को अपनेह गानद पे और परेस्स किया।।।।।।उसेह मज़ा आया।।।और परेस्स किया।।।।और मज़ा आया।।।उसके गानद मैन आग सी लगि हुइ थी।।।उसका दिल चा रहा था कि पूओरा शिवलिनग अस्सहोले मेन दबा दे।।।।।तभि उसेह फिर खयाल आया कि शिवलिनग के साथ ऐसा करना पाप है।।।।।उसनेह येह भि सोचा कि "कया भगवान शिव मेरे साथ ऐसा करना चातेह हैन?"।।।।।दर्र के करन उसनेह शिवलिनग को तानगोन के बीच मेन कर दिया।।।।नादा बानधा।।।।और सो गयी।।।
अगले दिन शीला वहि पिचले रासते से पनदित के पास सलवार कमीज़ पेहेन कर गयी।।।।।
पनदित: आओ शीला।।।।जाओ दूध से सनान कर आओ।।।।और वसत्रा बदल लो।।
शीला दूध से नहा कर कपदे पेहन रही थी तोह उसनेह देखा कि आज जोगिया बलौसे और पेत्तिसोअत के साथ जोगिया रनग कि कच्चि भि पदि थी।।।।।उसनेह अपनि बलसक कच्चि उतार के जोगिया कच्चि पेहन ली।।।नहा के बहर आयी।।।
पनदित अगनि जला कर बैथा मनत्रा पद रहा था।।।।
शीला भि उसके पास आ कर बैथ गयी।।
पनदित: शीला।।।।।आज तोह तुमहारे सारे वसत्रा शुध हैन ना।।?
शीला थोदा शरमा गयी।।
शीला: जि पनदितजि।।।
वेह जानति थी कि पनदित का मतलब कच्चि से है।।।
पनदित: तुम चाहो तोह वो शिवलिनग फिलहाल निकाल सकति हो।।।
शीला खदि होकर शिवलिनग कि मौलि खोलने लगि।।।लेकिन गानथ काफ़ि तिघत लगि थी।।।।पनदित ने येह देखा।।
पनदित: लाओ मैन खोल दून।।
पनदित भि खदा हुअ।।।शीला के पीचे आ कर वो मौलि खोलने लगा।।।
पनदित: शिवलिनग ने तुमहेन परेशान तोह नहिन किया।।।।खास कर रात मेन सोनेह मेन कोइ दिक्कत तोह नहिन हुइ।।?
शीला कैसे केहति कि रात को शिवलिनग ने उसके साथ कया किया है।।।
शीला: नहिन पनदितजि।।।कोइ परेशानि नहिन हुइ।।
पनदित ने मौलि खोलि।।।।।।शीला ने शिवलिनग पेत्तिसोअत से निकला तो पया कि मौलि उसके पेत्तिसोअत के नादे मेन इलझ गयी थी।।।शीला कुच देर कोशिश कत्रि रही लेकिन मौलि नादे से नहिन निकलि।।।
पनदित: शीला।।।।।पुजा मेन विलमभ हो रहा है।।।लाओ मैन निकालून
पनदित शीला के सामनेय आया और उसके पेत्तिसोअत के नादे से मौलि निकालनेह लगा।।।।।।।।
पनदित: येह ऐसे नहिन निकलेगा।।।तुम ज़रा लेत जाओ
शीला लेत गयी।।।पनदित उसके नादे पे लगा हुअ था।।।
पनदित: शीला।।।।नादे कि गानथ खोलनी पदेगी।।।पुजा मेन विलमभ हो रहा है।।।
शीला: जि।।।
पनदित ने पेत्तिसोअत के नादे कि गाथ खोल दि।।।।गाथ खोलनेह से पत्तिसोअत लूसे हो गया और शीला कि कच्चि से थोदा नीचे आ गया।।।।
शीला शरम से लाअल हो रही थी।।।।पनदित ने शीला का पेत्तिसोअत थोदा नीचे सरका दिया।।।।शीला पनदित के सामनेह लेति हुइ थी।।।।उसका पेत्तिसोअत उसकि कच्चि से नीचे था।।।मौलि निकालते वकत पनदित कि कोनि (एलबोव) शीला कि चूत के पास लग रहि थी।।।।कुच देर बाद मौलि नादे से अलग हो गयी।।
पनदित: येह लो।।।निकल गयी।।।
पनदित ने मौलि निकाल कर शीला के पेत्तिसोअत का नादा बानधने लगा।।।।उसनेह नादे कि गानथ बहुत तिघत बानधि।।।।शीला बोलि।।
शीला: अह।।।पनदितजि।।।।बहुत तिघत है।।।।
पनदित ने फिर नादा खोला।।।।।और इस्स बार गानथ लूसे बानधि।।।।
फिर दोनो चौकदि मार के बैथ गये।।
पनदित: ।।।।।अब तुम तेह मनत्रा 200 बार पदो।।।और उसके बाद शिव कि आरति करना।।।
जब शीला कि मनत्रा और आरति खतम हो गयी तोह पनदित ने कहा।।।
पनदित: मैनेह कल वेद फिरसे पदे तोह उसमेन लिखा था कि सत्रि (वोमन) जितनि आकरशक दिखे शिव उतनि हि जलदि परसन्न होते हैन।।।।।इस के लिये सत्रि जितना चाहेह शरिनगार कर सकति है।।।।।।।लेकिन सुच कहून।।।।।
शीला: कहिये पनदितजि।।।
पनदित: तुम पेहले से हि इतनि आकरशक दिखति हो कि शयद तुमहे शरिनगार कि आवरशता हि ना पदे।।।।।।।।
शीला अपनि तारीफ़ सुन कर शरमाने लगि।।।
पनदित: मैन सोचता हून कि तुम बिना शरिनगार के इतनि सुनदर लगति हो।।।तोह शरिनगार के पशचात तोह तुम बिलकुल अपसरा लगोगि।।।
शीला: कैसी बातेन करतेन हैन पनदितजि।।।।मैन इतनि सुनदर कहन हून।।।।।।
पनदित: तुम नहिन जानति तुम कितनि सुनदर हो।।।।।।तुमहारा वयवहर भि बहुत चनचल है।।।।।तुमहारि चाल भि आकरशित करति है।।।
शीला येह सब सुन कर शरमा रहि थी।।।मुसकुरा रहि थी।।।।उसेह अच्चा लग रहा था।।।
पनदित: वेदोन के अनुसार तुमहारा शरिनगार पवित्रा हाथोन से होना चाहिये।।।।अथवा तुमहारा शरिनगार मैन करूनगा।।।।।।इसमेन तुमहेन कोइ आपति तोह नहिन।।।।
शीला: नहिन पनदितजि।।।।।
पनदित: शीला।।।।।मुझे याद नहिन रहा था।।।।लेकिन वेदोन के अनुसार जो शिवलिनग मैनेह तुमहेन दिया था उस पर पनदित का चित्रा होना चाहिये।।।।।इसलिये इस शिवलिनग पे मैन अपनि एक चोति सी फोतो चिपका रहा हून।।।।।
शीला: थीक है पनदितजि।।।
पनदित: और हान।।।रात को दो बार उथ कर इस शिवलिनग को जै करना।।।एक बार सोने से पेहले।।।और दूसरि बार बीच रात मैन
शीला: जि पनदितजि।।।
पनदित ने शिवलिनग पर अपनि एक चोति सी फोतो चिपका दि।।।।और शीला को बानधने के लिये दे दिया।।।
शीला ने पेहले जैसे शिवलिनग को अपनि तानगोन के बीच बानध लिया।।।
शीला अपने कपदे पेहेन के घर चलि आयी।।।।।।पनदित से अपनि तारीफ़ सुन कर वो खुश थी।।।।
सारे दिन शिवलिनग शीला के तानगोन के बीच चुभता रहा।।।।लेकिन अब येह चुभन शीला को अच्चि लग रहि थी।।।
शीला रात को सोनेह लेति तोह उसेह याद आया कि शिवलिनग को जै करना है।।।
उसने सलवार का नादा खोल के शिवलिनग निकला और अपने माथे से लगया।।।वो शिवलिनग पे पनदित कि फोतो को देखने लगि।।।
उसेह पनदित दवारा कि गयी अपनि तारीफ़ याद आ गयी।।।।।उसेह पनदित अच्चा लगने लगा था।।।
कुच देर तक पनदित कि फोतो को देखने के बाद उसने शिवलिनग को वहिन अपनि तानगोन के बीच मेन रख दिया और नादा लगा लिया।।।
शिवलिनग शीला कि चूत को तौच कर रहा था।।।।शीला ना चहते हुए भि एक हाथ सलवार के ऊपर से हि शिवलिनग पे ले गयी।।।और शिवलिनग को अपनि चूत पे दबाने लगि।।।।साथ साथ उसेह पनदित कि तारीफ़ याद आ रहि थी।।।
उसका दिल कर रहा था कि वो पूरा का पूरा शिवलिनग अपनी चूत मेन दाल दे।।।।लेकिन इसे गलत मानते हुए और अपना मन मारते हुए उसने शिवलिनग से हाथ हता लिया।।।
आधि रात को उसकि आनख खुलि तोह उसेह याद आया कि शिवलिनग को जै करनि है।।।
शिवलिनग का सोचते हि शीला को अपनि हिपस के बीच मेन कुच लगा।।।।।।शिवलिनग कल कि तरह शीला कि हिपस मेन फसा हुअ था।।।।
शीला ने सलवार का नादा खोला और शिवलिनग बहर निकाला।।।।।उसने शिवलिनग को जै किया।।।।उस पर पनदित कि फोतो को देख कर दिल मेन केहने लगि।।"येह कया पनदित जि।।।पीचे कया कर रहे थेह।।।"।।।।।शीला शिवलिनग को अपनि हिपस के बीच मेन ले गयी और अपने गानद पे दबाने लगि।।।।।उसेह मज़ा आ रहा था लेकिन दर्र कि वजह से वो शिवलिनग को गानद से हता कर तानगोन के बीच ले आयी।।।।उसने शिवलिनग को हलका सा चूत पे रगदा।।।फिर शिवलिनग को अपने माथेह पे रखा और पनदित कि फोतो को देख कर दिल मैन केहने लगि "पनदितजि।।।।कया चहते हो।।?।।।एक विधवा के साथ येह सन करना अच्चि बात नहिन"।।।।।।।।।।
फिर उसने वपस शिवलिनग को अपनि जगह बानध दिया।।।।और गरम चूत हि ले के सो गयी।।।।
अगले दिन।।।।।।
पनदित: शीला।।।शिव को सुनदर सत्रियान आकरशित करति हैन।।।।।।अथा।।तुमहेन शरिनगार करना होगा।।।।परनतु वेदोन के अनुसार येह शरिनगार शुध हाथोन से होना चाहिये।।।।।।।मैनेह ऐसा पेहले इसलिये नहिन कहा कि शयद तुमहेन लज्जा आयेह।।।
शीला: पनदितजि।।।मैनेह तोह आपसे पेहले हि कहा था कि मैन भगवान के काम मेन कोइ लज्जा नहिन करूनगि।।।।।
पनदित: तोह मैन तुमहारा शरिनगार खुध अपने हाथोन से करूनगा।।।।
शीला: जि पनदितजि।।।
पनदित: तोह जाओ।।।पेहले दूथ से सनान कर आओ।।
शीला दूध से नहा आयी।।।।
पनदित ने शरिनगार का सारा समान तैयार कर रखा था।।।लिपसतिसक, रूज़, एये-लिनेर, गलिम्मेर, बोदी ओइल।।।।।
शीला ने बलौसे और पेत्तिसोअत पेहना था।।।।
पनदित: आओ शीला।।।
पनदित और शीला आमने सामने ज़मीन पर बैथ गये।।।।पनदित शीला के बिलकुल पास आ गया
पनदित: तोह पेहले आनखोन से शुरु करते हैन।।।।
पनदित शीला के एये-लिनेर लगाने लगा।।
पनदित: शीला।।।एक बात कहून।।?
शीला: कहिये पनदितजि।।
पनदित: तुमहारि आनखेन बहुत सुनदर हैन।।।।तुमहारि आनखोन मेन बहुत गेहरायि है।।।
शीला शरमा गयी।।।।
पनदित: इतनि चमकीली।।।।जीवन से भरी।।।पयार बिखेरती।।।।।।।।कोइ भि इन आनखोन से मनत्रा-मुगध हो जाये।।।।
शीला शरमति रहि।।।कुच बोलि नहिन।।।थोदा मुसकुरा रही थि।।।।उस्से अच्चा लग रहा था।।।।
एये-लिनेर लगाने के बाद अब गालोन पे रूज़ लगाने कि बारि आयी।।
पनदित ने शीला के गालोन पे रूज़ लगातेह हुए कहा।।।
पनदित: शीला।।।।एक बात कहून।।।?
शीला: जि।।।कहिये पनदितजि।।
पनदित: तुमहारे गाल कितने कोमल हैन।।।।।जैसे कि मखमल के बने हो।।।।इन पे कुच लगाति हो कया।।।।।
शीला: नहिन पनदितजि।।।।।अब शरिनगार नहिन करति।।।।केवल नहते वकत साबुन लगति हून।।
पनदित शीला के गालोन पे हाथ फेरनेह लगा।।।
शीला शरमा रहि थी।।
पनदित: शीला।।।तुमहारे गाल चूनेह मेन इतने अच्चे हैन कि।।शिव का भि इनहेन।।।इनहेन।।।।
शीला: इनहेन कया पनदितजि।।?
पनदित: शिव का भि इन गालोन का चुमबन लेने को दिल करे।।
शीला शरमा गयी।।।।थोदा सा मुसकुरायी भि।।।अनदर से उस्से बहुत अच्चा लग रहा था।।।
पनदित: और एक बार चुमबन ले तोह चोरनेह का दिल ना करे।।।।।
गालोन पे रूज़ लगाने के बाद अब लिपस कि बारि आयी।।।।
पनदित: शीला।।।।हनोथ (लिपस) सामने करो।।।
शीला ने लिपस सामने करे।।।
पनदित: मेरे खयाल से तुमहारे हनोतोन पर गादा लाल (दरक रेद) रनग बहुत अच्चा लगेगा।।।।
पनदित ने शीला के हनोतोन पे लिपसतिसक लगानि शुरु कि।।।।शीला ने शरम से आनखेन बनद कर रखि थी।।।
पनदित: शीला।।।तुम लिपसतिसक हनोत बनद करके लगाति हो कया।।।।थोदे हनोत खोलो।।।
शीला ने हनोत खोलेह।।।।।।पनदित ने एक हाथ से शीला कि थोदि पकदि और दूसरे हाथ से लिपसतिसक लगाने लगा।।।।
पनदित: वह।।।अति सुनदर।।।।।
शीला: कया पनदितजि।।।
पनदित: तुमहारे हनोत।।।।कितने आकरशक हैन तुमहारे हनोत।।।।कया बनवत है।।।।।।कितने भर्रे भर्रे।।।।कितने गुलाबि।।।
शीला: ।।।।आप मज़ाक कर रहे हैन पनदितजि।।।।
पनदित: नहिन।।।शिव कि सौगनध।।।।।तुमहारे हनोत किसि को भि आकरशित कर सकते हैन।।।।।।।तुमहारे हनोत देख कर तोह शिव पारवति के हनोत भूल जाये।।।।वेह भि ललचा जाये।।।।।।तुमहारे हनोतोन का सेवन करे।।।।।तुमहारे हनोतोन कि मदिरा पियेन।।।।।।।।।।।।।।।।
शीला अनदर से मरि जा रहि थी।।।।उस्से बहुत हि अच्चा फ़ील हो रहा था।।।।
पनदित: एक बात पूचून?
शीला: पूचिये पनदितजि।।
पनदित: कया तुमहारे हनोतोन का सेवन किसि ने किया है आज तक।।।
शीला येह सुनते हि बहुत शरम्मा गयी।।।।
शीला: एक दो बार।।।।मेरे पति ने।।
पनदित: केवल एक दो बार।।।।।
शीला: वो ज़यादातर बहर रेहते थेह।।।।
पनदित: तुमहारे पति के अलावा और किसि ने नहिन।।।
शीला: कैसी बातेन कर रहेन हैन पनदितजि।।।।पति के अलावा और कौन कर सकता है।।।कया वो पाप नहिन है।।।।
पनदित: यदि विवश हो के किया जाये तोह पाप है।।।।।वरना नहिन।।।।।।।।।।।।लेकिन तुमहारे हनोतोन का सेवन बहुत आननदमयि होगा।।।।।।ऐसे हनोतोन का रुस जिसने नहिन पिया।।उसका जीवन अधूरा है।।।
शीला अनदर हि अनदर खुशि से पागल हुइ जा रहि थी।।।।।।।।।।।अपनी इतनि तारीफ़ उसने पेहले बार सुन्नेह को मिल रही थी।।।
फिर पनदित ने हैर-दरिएर निकाला।।
अब पनदित दरिएर से शीला के बाल सुखाने लगा।।।।शीला के बाल बहुत लमबे थेह।।।
पनदित: शीला झूत नहिन बोल रहा।।।लेकिन तुमहारे बाल इतने लमबे और घन्ने हैन कि शिव इनमेन खो जायेनगे।।।
उसने शीला का हैर-सतयले चनगे कर दिया।।।उसके बाल बहुत फ़लुफ़्फ़ी हो गये।।।
एये-लिनेर, रूज़, लिपसतिसक और दरिएर लगाने के बाद पनदित ने शीला को शीशा दिखया।।।
शीला को यकीन हि नहिन हुअ कि वेह भि इतनि सुनदर दिख सकति है।।।
पनदित ने वाकेह हि शीला का बहुत अच्चा मके-उप किया था।।।
ऐसा मकेउप देख कर शीला खुद को सेनसुऔस फ़ील करने लगि।।।
उस्से पता ना था कि वो भि इतनि एरोतिस लग सकति है।।।।
पनदित: मैनेह तुमहारे लिये खास जदिबूतियोन का तेल बनया है।।।।इस्से तुमहारि तवचा मेन निखार आयेगा।।।तुमहारि तवचा बहुत मुलायम हो जायेगि।।।।।तुम अपने बदन पे कौनसा तेल लगाति हो।?
शीला 'बदन' का नाम सुन के थोदा शरमा गयी।।।।।सेनसुऔस तोह वो पेहले हि फ़ील कर रही थी।।।'बदन' का नाम सुनके वो और सेनुऔस फ़ील करने लगि।।।
शीला: जि।।।मैन बदन पे कोइ तेल नहिन लगाति।।।
पनदित: चलो कोइ नहिन।।।।।अब ज़रा घुतनो के बल खदि हो जाओ।।।।
शील कनी-दोवन (तो सतनद ओन कनीस) हो गयी।।।।
पनदित: मैन तुम पर तेल लगाओनगा।।।।लज्जा ना करना।।
शीला: जि पनदितजि।।।
शीला बलौसे-पेत्तिसोअत मेन घुतनो पे थी।।।।।।
पनदित भि घुतनो पे हो गया।।।
शीला के पेत पे तेल लगाने लगा।।।।
अब वो शीला के पीचे आ गया।।।।और शीला कि पीथ और कमर पे तेल लगाने लगा।।।।।
पनदित: शीला तुमहारि कमर कितनि लचीली है।।।।तेल के बिना भि कितनि चिकनि लगति है।।।
पनदित शीला के बिलकुल पीचेह आ गया।।।।दोनो घुतनो पे थेह।।।
शीला के हिपस और पनदित के लुनद मैन मुशकिल से 1 इनच का फ़ासला था।।।
पनदित पीचे से हि शीला के पेत पे तेल लगाने लगा।।।।
वो उसके पेत पे लमबे लमबे हाथ फेर रहा था।।।
पनदित: शीला।।।।तुमहारा बदन तोह रेशमी है।।।तुमहारे पेत को हाथ लगाने मेन कितना आनद अता है।।।।ऐसा लग रहा है कि शनील कि रजायी पे हाथ चला रहा हून।।।।।।।।।।
पनदित पीचे से शीला के और पास आ गया।।।उसका लुनद शीला कि हिपस को जुसत तौच कर रहा था।।।
पनदित शीला कि नवेल मेन उनगलि घुमाने का लगा।।।।
पनदित: तुमहारि धुन्नि कितनि चिकनि और गेहरी है।।।।जानति हो यदि शिव ने ऐसी धुन्नि देख ली तोह वेह कया करेगा।।?
शीला: कया पनदितजि।?
पनदित: सधा तुमहारि धुन्नि मेन अपनि जीभ दालेह रखेगा।।।।।इसेह चूसता और चात-ता रहेगा
येह सुन कर शीला मुसकुराने लगि।।।।।शयद हर लदकि/नारि को अपनि तारीफ़ सुन्ना अच्चा लगता है।।।।चाहे तारीफ़ झूति हि कयुन ना हो।।।।
पनदित एक हाथ शीला के पेत पे फेर रहा था।।।और दूसरे हाथ कि उनगलि शीला कि नवेल मेन घुम्मा रहा था।।।
शीला के पेत पे लमबे लमबे हाथ मारते वकत पनदित दो तीन उनगलिया शीला के बलौसे के अनदर भि ले जाता।।।
तीन चार बार उसकि उनगलियान शीला के बूबस के बोत्तोम को तौच करि।।।।
शीला गरम होति जा रहि थी।।।।
पनदित: शीला।।।अब हमरि पुजा आखरि चरनो(सतगेस) मैन है।।।।।वेदोन के अनुसार शिव ने कुच आस्सन बतायेन हैन।।।
शीला: आस्सन।।।कैसे आस्सन पनदितजि।।?
पनदित: अपने शरीर को शुध करने के पशचात जो सत्रि वो आस्सन लेति है।।।शिव उस-सेह सधा के लिये परसन्न हो जाता है।।।।।।।।।।लेकिन येह आस्सन तुमहेन एक पनदित के साथ लेने होनगे।।।।परनतु हो सकता है मेरे साथ आस्सन लेने मेन तुमहेन लज्जा आये।।।
शीला: आपके साथ आस्सन।।।।।।।।मुझे कोइ आपत्ति नहिन है।।।।।।।
पनदित: तोह तुम मेरे साथ आस्सन लोगि।।?
शीला: जि पनदितजि।।।
पनदित: लेकिन आस्सन लेने से पेहले मुझे भि बदन पे तेल लगाना होगा।।।।और येह तुमहेन लगाना है।।।
शीला: जि पनदितजि।।।
येह केह कर पनदित ने तेल कि बोत्तले शीला को दे दि।।।।और वो दोनो आमने सामने आ गये।।।।दोनो घुतनो पे खदे थेह।।।
शीला ने पनदित कि चेसत पे तेल लगाना शुरु किया।।।।
पनदित ने चेसत, पेत और उनदेररमस शवे किये थेह।।।।।।इसलिये उसकि सकिन बिलकुल समूथ थी।।।
शीला पेहले भि पनदित के बदन से अत्तरसत हो चुकि थी।।।।आज पनदित के बदन पे तेल लगाने से उसका बदन और चिकना हो गया।।।।।।।।।।।।।।।वो पनदित कि चेसत, पेत, बाहेन और पीथ पर तेल लगाने लगि।।।।।वेह अनदर से पनदित के बदन से लिपतना चाह रहि थी।।।।शीला भि पनदित के पीचे आ गयी।।।और उसकि पीथ पे तेल मलनेह लगि।।।फिर पीचे से हि उसके पेत और चाति पे तेल मलने लगि।।।।शीला के बूबस हलके हलके पनदित कि पीथ से तौच हो रहे थेह।।।।शीला ने भि पनदित कि नवेल मेन दो तीन बार उनगलि घुमायी।।।।।।
पनदित: शीला।।।तुमहारे हाथोन का सपरश कितना सुखदायि है।।।।
शीला केहना चा रही थी कि 'पनदितजि।।अपके बदन का सपरश भि बहुत सुखदायि है।।। '।।।।।।।।लेकिन शयनेस्स कि वजह से ना केह पायी।।।।।।।
पनदित: चलो।।।अब आस्सन ले।।।।।।।।।।।पेहले आस्सन मेन हुम दोनो को एक दूसरे से पीथ मिला कर बैथना है।।।
पनदित और शीला चौकदि मार के और एक दूसरे कि तरफ़ पीथ कर के बैथ गये।।।।फिर दोनो पास पास आये जिस्से कि दोनो कि पीथ मिल जाये।।।।।
पनदित कि पीथ तोह पेहले हि ननगि थी कयुनकि उसने सिरफ़ लुनगि पेहनी थी।।।।शीला बलौसे और पेत्तिसोअत मेन थी।।।।।।उसकि लोवेर पीथ तोह ननगि थी हि।।।।उसके बलौसे के हूकस भि नहिन थेह इसलिये ऊपर के पीथ भि थोदि सी एक्सपोसेद थी।।।
दोनो ननगि पीथ से पीथ मिला कर बैथ गये।।।
पनदित: शीला।।।अब हाथ जोद लो।।।।
पनदित हलके हलके शीला कि पीथ को अपनि पीथ से रगदनेह लगा।।।दोनो कि पीथ पे तेल लगा था।।।इसलिये दोनो कि पीथ चिकनि हो रहि थी।।।।
पनदित: शीला।।।।।।तुमहारि पीथ का सपरश कितना अच्चा है।।।।।।।कया तुमनेन इस्सेह पेहले कभि अपनि ननगि पीथ किसि कि पीथ से मिलायी है।।?
शीला: नहिन पनदितजि।।।।पेहली बार मिला रहि हून।।।।
शीला भि हलके हलके पनदित कि पीथ पे अपनि पीथ रगदनेह लगि।।।।
पनदित: चलो।।।अब घुतनो पे खदे होकर पीथ से पीथ मिलानि है।।।।
दोनो घुतनो के बल हो गये।।।।
एक दूसरे कि पीथ से चिपक गये।।।।।इस पोसितिओन मेन सिरफ़ पीथ हि नहिन।।दोनो कि हिपस भि चिपक रहीन थी।।।
पनदित: अब अपनि बाहेन मेरि बाहोन मेन दाल के अपनि तरफ़ हलके हलके खीनचो।।।
दोनो एक दूसरे कि बहोन मेन बहेन दाल के खीनच ने लगे।।।।दोनो कि ननगि पीथ और हिपस एक दूसरे कि पीथ और हिपस से चिपक गयी।।।।
पनदित अपनि हिपस शीला कि हिपस पे रगदने लगा।।।।शीला भि अपनि हिपस पनदित कि हिपस पे रगदने लगि।।।
शीला कि चूत गरम होति जारहि थी।।
पनदित: शीला।।।।।कया तुमहेन मेरि पीथ का सपरश सुखदायी लगा रहा है।।?
शीला शरमायी।।।।लेकिन कुच बोल हि पदी।।।
शीला: हान पनदितजि।।।।।।आपकि पीथ का सपरश बहुत सुखदायी है।।।
पनदित: ।।।और नीचे का।।?।।
शीला समझ गयी पनदित का इशारा हिपस कि तरफ़ है।।
शीला: ।।ह्ह।।हान पनदितजि।।।
दोनो एक दूसरे कि हिपस को रगद रहे थेह।।।
पनदित: शीला।।।।।तुमहारे चूतद भि कितने कोमल लगते हैन।।।।कितने सुदोल।।।मेरे चूतद तोह थोदे कथोर हैन।।।
शीला: पनदितजि।।।।आदमियोन के थोदे कथोर हि अच्चे लगते हैन।।।।
पनदित: अब मैन पेत के बल लेतूनगा।।।और तुम मेरे ऊपर पेत के बल लेत जाना।।।
शीला: जि पनदितजि।।।
पनदित ज़मीन पर पेत के बल लेत गया और शीला पनदित के ऊपर पेत के बल लेत गयी।।।
शीला के बूबस पनदित कि पीथ पे चिपके हुए थेह।।।
शीला का ननगा पेत पनदित कि ननगि पीथ से चिपका हुअ था।।।।
शीला खुद हि अपना पेत पनदित कि पीथ पे रगदने लगि।।।।
पनदित: शीला।।।।।तुमहारे पेत का सपरश ऐसे लगता है जैसे कि मैनेह शनील कि रजायी औद ली हो।।।।।और एक बात कहून।।।
शीला: स्स।।।कहिये पनदितजि।।
पनदित: तुमहारे सतन्नो का सपरश तोह।।।।।।
शीला अपने बूबस भि पनदित कि पीथ पे रगदने लगि।।।
शीला: तोह कया।।।।
पनदित: मधोश कर देने वला है।।।।।तुमहारे सतन्नो को हाथोन मेन लेने के लिये कोइ भि ललचा जाये।।।
शीला: स्सह्ह।।।।।।।।।
पनदित: अब मैन सीधा लेतूनगा और तुम मुझ पर पेत के बल लेत जाओ।।।।लेकिन तुमहारा मनूह मेरे चरनो कि और मेरा मनूह तुमहारे चरनो कि तरफ़ होना चाहिये।।।
पनदित पीथ के बल लेत गया और शीला पनदित के ऊपर पेत के बल लेत गयी।।।।
शीला कि तानगेन पनदित के फ़से कि तरफ़ थी।।।।।।।।शीला कि नवेल पनदित के लुनद पे थी।।।।वेह उसके सकत लुनद को मेहसूस कर रही थी।।।।।
पनदित शीला कि तानगोन पे हाथ फेरने लगा।।।
पनदित: शीला।।।।।।।।तुमहारि तानगेन कितनि अच्चि हैन।।।।
पनदित ने शीला का पेत्तिसोअत ऊपर चदा दिया और उसकि थिघस मलनेह लगा।।।।
उसनेह शीला कि तानगेन और विदे कर दि।।।।।शीला कि पनती साफ़ दिख रहि थी।।।
पनदित शीला कि चूसत के पास हलके हलके हाथ फेरनेह लगा।।।।
पनदित: शीला।।।।तुमहारि झानगे कितनि गोरि और मुलयम हैन।।।।।
चूत के पास हाथ लगाने से शीला और भि गरम हो रही थी।।।।
पनदित: तुमहेन अब तक सबसे अच्चा आस्सन कौनसा लगा।?
शीला: स्स।।।।वो।।।घुतनो के बल।।।।पीथ से पीथ।।।नीचे से नीचे वला।।।।।
पनदित: चलो।।।।अब मैन बैथ-ता हून।।।और तुमहेन सामने से मेरे कनधोन पे बैथना है।।।।।मेरा सिर तुमहारि तानगोन के बीच मेन होना चाहिये।।।
शीला: जि।।।।
शीला ने पनदित का सिर अपनि तानगोन के बीच लिया और उसके कनधोन पे बैथ गयी।।।
इस पोसितिओन मेन शीला कि नवेल पनदित के लिपस पे आ रही थी।।।।
पनदित अपनि जीभ बहर निका के शीला कि धुन्नि मेन घुमाने लगा।।।
शीला को बहुत मज़ा आ रहा था।।।
पनदित: शीला।।।अनखेन बद करके बोलो।।सवाहा।।
शीला: सवाहा।।
पनदित: शीला।।।।तुनहारि धुन्नि कितनि मीथि और गेहरी है।।।।।।।।।।।।।।कया तुमहेन येह वला आस्सन अच्चा लग रहा है।।
शीला: हान्न।।।पनदितजि।।।।येह आस्सन बहुत अच्चा है।।।।बहुत अच्चाअ।।।
पनदित: कया किसि ने तुमहारि धुन्नि मेन जीभ दालि है।।।।
शीला: आह्ह।।।।नहिन पनदितजि।।।आप पेहले हैन।।।
पनदित: अब तुम मेरे कनधोन पे रेह के हि पीचे कि तरफ़ लेत जाओ।।।।।हाथोन से ज़मीन का सहरा ले लो।।।
शीला पनदित के कनधोन का सहरा लेकर लेत गयी।।।।।।
अब पनदित के लिपस के सामनेह शीला कि चूत थी।।।।
पनदित धीरे से अपने हाथ शीला के सतन्न पे ले गया।।।और बलौसे के ऊपर से हि दबाने लगा।।।
शीला यहि चह रही थी।।।।।
पनदित: शीला।।।।तुमहारे सतन्न कितने भर्रे भर्रे हैन।।।।।।।अच्चे अच्चे।।।।
शीला: आह्ह।।।।।।।
शीला ने एक हाथ से अपना पेत्तिसोअत ऊपर चदा दिया और अपनि चूत को पनदित के लिपस पे लगा दिया।।।।
पनदित कच्चि के ऊपर से हि शीला कि चूत पे जीभ मारने लगा।।।।
पनदित: शीला।।।।अब तुम मेरि झोलि मैन आ जाओ।।।
शीला फ़ोरेन पनदित के लुनद पे बैथ गयी।।।।।उस-से लिपत गयी।।।।
पनदित: अह्ह।।।।शीला।।।येह आस्सन अच्चा है।।?।।
शीला: स्स।।स।।सबसे।अच्चा।।।।ऊओ पनदितजि।।।
पनदित: ऊह्ह।।।शीला।।।।आज तुम बहुत कामुक लग रही हो।।।।।कया तुम मेरे साथ काम करना चहति हो।।?
शीला: हान पनदितजि।।।।।स्सस।।।।।।।मेरि काम अगनि को शानत किजिये।।।।ह्हह्ह।।।पलेअसे।।पनदितजि।।।
पनदित शीला के बूबस को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा।।।।शीला बार बार अपनि चूत पनदित के लुनद पे दबाने लगि।।।
पनदित ने शीला का बलौसे उतार के फेनक दिया और उसके निप्पलेस को अपने मनूह मेन ले लिया।।।।।
शीला: आअह्ह।।।पनदितजि।।।।मेरा उधार करो।।।।मेरे साथ काम करो।।।।
पनदित: बहुत नहायी है मेरे दूध से।।।।।सरा दूध पीजाओनगा तेरि चातितयोन का।।।।
शीला: आअह्ह।।।।पी जाओ।।।।।मैन क्क।।।कब मना करति हून।।।पी लो पनदितजि।।।।पी लो।।।।
कुच देर तक दूध पीने के बाद अब दोनो से और नहिन सहा जा रहा था।।।
पनदित ने बैथे बैथे हि अपनि लुनगि खोल के अपने कच्चे से अपना लुनद निकला।।।शीला ने भि बैथे बैथे हि अपनि कच्चि थोदि नीचे कर दि।।।।
पनदित: चल जलदि कर।।।।।
शीला पनदित के सकत लुनद पर बैत गयी।।।।लुनद पूरा उसकि चूत मेन चला गया।।।।
शीला: आअह्हह्हह।।।।।।सवाहा।।।।करदो मेरा सवाहा।।आ।।।
शीला पनदित के लुनद पे ऊपर नीचे होने लगि।।।।चुदै ज़ोरो पे थी।।।।
पनदित: आह्हह।।।।।मेरि रनि।।।।।मेरि पुजारन।।।।।तेरि योनि कितनि अच्चि है।।।।कितनि सुखदायि।।।।।मेरि बासुरि को बहुत मज़ा आ रहा है।।।।
शीला: पनदितजि।।।।।आपकि बासुरि भि बदि सुखदायि है।।।।आपकि बासुरि मेरि योनि मेन बदि मीथी धुन बजा रहि है।।।
पनदित: शिवलिनग को चोर।।।।पेहले मेरे लिनग कि जै कर ले।।।।।बहुत मज़ा देगा येह तेरेको।।
शीला: ऊऊआअ।।।।प्प।।।।पनदितजि।।।।रात को तोह आपके शिवलिनग ने कहन कहन घुसनेह कि कोशिश कि।।।।।।
पनदित: मेरि रनि।।।आअ।।।।फ़िकर मत कर।।।।।स्स।।।तुझे जहन जहन घुसवना है।।।।मैन घुसाऊनगा।।।।
शीला: आअह्हह्ह।।।।।।पनदितजि।।।।एक विधवा को।।।दिलसा नहिन।।।।मरद का बदन चाहिये।।।।असलि सुख तोह इसि मेन है।।।।कयुन।।।।।।।आआ।।।।बोलिये ना पनदितजि।।।आऐई।।।
पनदित: हान।।आ।।।।
अब शीला लेत गयी और पनदित उसके ऊपर आकर उसेह चोदने लगा।।।
साथ साथ वो शीला के बूबस भि दबा रहा था।।।
पनदित: आअह्ह।।।उस्स।।।।आज के लिया तेरा पति बन जाऊन।।।बोल।।।
शीला: आऐए।।।स्सस।।।।।।।ई।।।।।हाअन्न।।।।बन जाओ।।।।।
पनदित: मेरा बान (अर्रोव) आज तेरि योनि को चीर देगा।।।।।।मेरि पयारी।।।।
शीला: आअह्हह।।।।।चीर दो।।।।आआअह्हह्हह्हह्हह्ह।।।।चीएर दो नाअ।।।।।आआह्ह
पनदित: आअह्हह।।।ऊऊऊऊ
दोनो एक साथ झद गये और पनदित ने सारा सेमेन शीला कि चूत के ऊपर झद दिया।।।।
शीला: आह्ह।।।।।।
अब शीला पनदित से आनखेन नहिन मिला पा रही थी।।।।।।
पनदित शीला के साथ लेत गया और उसके गालोन को चूमने लगा।।।
शीला: पनदितजि।।।।कया मैनेह पाप कर दिया है।।।।?।।
पनदित: नहिन शीला।।।।।पनदित के साथ काम करने से तुमहारि शुधता बध गयी है।।।।।
शीला कपदे पेहेन के और मकेउप उतार के घर चली आयी।।।।।
आज पनदित ने उसेह शिवलिनग बानधने को नहिन दिया था।।।।।
रात को सोतेह वकत शीला शिवलिनग को मिस्स कर रही थी।।।।।।।
उसेह पनदित के साथ हुइ चुदै याद आने लगि।।।।।।।।।।।।।।।।।।वो मन हि मन मेन सोचने लगि।।'पनदितजि।।।आप बदे वो हैन।।।।कब मेरे साथ कया कया करते चले गये।।पता हि नहिन चला।।।पनदितजि।।।आपका बदन कितना अच्चा है।।।।।।।।अपने बदन कि इतनि तारीफ़ मैनेह पेहली बार सुनि है।।।।।।।।।आप यहन कयुन नहिन हैन।।'
शीला ने अपना सलवार का नदा खोला और अपनि चूत को रगदने लगि।।।।'पनदितजि।।।।मुझे कया हो रहा है'।।येह सोचने लगि।।।
चूत से हता के उनगलि गानद पे ले गयी।।।और गानद को रगदने लगि।।।।'येह मुझे कैसा रोग लग गया है।।।तानगोन के बीच मेन भि चुभन।।।।।हिपस के बीच मेन भि चुभन।।।।।ओह।।'।।।
अगले दिन रोज़ कि तरह सुबेह 5 बजे शीला मनदिर आयी।।।।।इस वकत मनदिर मेन और कोइ ना हुअ करता था।।।
पनदित ने शीला को इशारे से मनदिर के पीचे आने को कहा।।।।।
शीला मनदिर के पीचे आ गयी।।।।आतेह हि शीला पनदित से लिपत गयी।।
शीला: ओह।।।पनदितजि।।।।
पनदित: ओह्ह।।।शीला।।।।।।।।
पनदित शीला को लिपस पे चूमने लगा।।।।शीला कि अस्स दबाने लगा।।।शीला भि कस के पनदित के हनोतोन को चूम रही थी।।।।।।तभि मनदिर का घनता बजा।।।।।और दोनो अलग हो गये।।।।।
मनदिर मेन कोइ पुजा करने आया था।।।।।।पनदित अपनि चूमा-चाति चोर के मनदिर मेन आ गया।।।।।।
जब मनदिर फिर खालि हो गया तोह पनदित शीला के पास आया।
पनदित: शीला।।।।इस वकत तोह कोइ ना कोइ आता हि रहेगा।।।।।तुम वहि अपने पुजा के तिमे पे आ जाना।।।
शीला अपनि पुजा करके चली आयी।।।।।।।।।।उसका पनदित को चोरने का दिल नहिन कर रहा था।।।खेर।।।।वो 12:45 बजे का इनतज़ार करने लगि।।।।।
12:45 बजे वो पनदित के घर पहुनचि।।।।।।दरवाज़ा खुलते हि वो पनदित से लिपत गयी।।।
पनदित ने जलदि से दरवाज़ा बनद किया और शीला को लेकर ज़मीन पे बिची चादर पे ले आया।।।।।
शीला ने पनदित को कस के बाहोन मेन ले लिया।।।।। पनदित के फ़से पर किस्स पे किस्स किये जा रही थी।।।।अब दोनो लेत गये थेह और पनदित शीला के ऊपर था।।।।
दोनो एक दूसरे के हनोतोन को कस कस के चूमने लगे।।।
पनदित शीला के हनोतोन पे अपनि जीभ चलाने लगा।।।।।शीला ने भि मनूह खोल दिया।।।अपनि जीभ निकल के पनदित कि जीभ को चातने लगि।।।।।।।।।पनदित ने अपनि पूरि जीभ शीला के मनूह मेन दाल दि।।।।।।शीला पनदित के दातोन पे जीभ चलाने लगि।।।।
पनदित: ओह।।।शीला।।।।।मेरि रनि।।।तेरि जीभ।।।तेरा मनूह तोह मिलक-सके जैसा मीथा है।।।
शीला: पनदितजि।।।आअ।।।।।।आपके हनोत बदे रसीलेन हैन।।।।।आपकि जीभ शरबत है।।आआह्ह।।।
पनदित: ओह्हह।।।शीला।।।।
पनदित शीला के गलेह को चूमनेह लगा।।।।।।
आज शीला सफ़ेद सारि-बलौसे मेन आयी थी।।।।।।
पनदित शीला का पल्लु हता के उसके सतन्नो को दबाने लगा।।।।शीला ने खुद हि बलौसे और बरा निकाल दिया।।
पनदित उसके बूबस पे तूत पदा।।।।।उसके निप्पलेस को कस कस के चोस्सने लगा।।।।
शीला: अह्हह्ह।।।पनदितजि।।।।।आराम से।।।।।।।मेरे सतन्न आपको इतनेह अच्चे लगे हैन।।।?।।।आऐईए।।।।
पनदित: हान।।।।।।तेरे सतन्नो का जवब नहिन।।।।।तेरा दूध कितनि सरेअम वला है।।।।।और तेरे गुलाबि निप्पलेस।।।इनेह तोह मैन खा जाऊनगा।।।
शीला: आअह्हह्ह।।।।ह।।।ई।।।।।।तोह खा जाओ ना।।।मना कौन करता है।।।।।।
पनदित शीला के निप्पलेस को दातोन के बीच मेन लेके दबाने लगा।।।
शीला: आऐई।।।।।।इतना मत कातो।।।।।आह्ह।।।।वरना अपनि इस भेनस (सोव) का दूध नहिन पी पाओगे।।।।
पनदित: ऊओ।।।मेरि भेनस।।।।।मैन हमेशा तेरा दुदु पीता रहूनगा।।।।
शीला: ई।।।त।।आआ।।।।तोह।।पी।।अह्ह।।।लो ना।।।।।निकालो ना मेरा दूध।।।।।।खालि कर दो मेरे सतन्नो को।।।।।
पनदित कुच देर तक शीला के सतन्नो को चूसता, चबाता, दबाता और कात-ता रहा।।।
फिर पनदित नीचे कि तरफ़ आ गया।।।।।उसने शीला कि सारि और पेत्तिसोअत उसके पेत तक चदा दिये।।।।।उसकि तानगेन खोल दि।।।।।।
पनदित: शीला।।।।आज कच्चि पेहेनेह कि कया ज़रूरत थि।।।।
शीला: पनदितजि।।।आगेह से नहिन पेहेनूगि।।।।
पनदित ने शीला कि कच्चि निकाल दि।।।
पनदित: मेरि रनि।।।।अपनि योनि दवार का सेवन तो करदे।।।।
येह केह कर पनदित शीला कि चूत चात-ने लगा।।।।।।।।।।शीला के बदन मेन सुर्रेनत सा दौद गया।।।।शीला पेहली बार चूत चतवा रही थी।।।।
शीला: आआह्हह्ह।।।।।।म।।।म्म।।म।।।।।मेरि योनि का सेवन कर लो पनदितजि।।।।।तुमहारे लिये सारे दवार खुलेह हैन।।।।अपनि शुध जीभ से मेरि योनि का भोग लगा लो।।।।मेरि योनि भि पवित्रा हो जायेगि।।।।।।।आआह्हह्हह
पनदित: आअह्ह।।।मज़ा आ गया।।।।
शीला: आअह।।।।हान।।हान।।।।।ले लो मज़ा।।।।।एक विधवा को तुमने गरम तोह कर हि दिया है।।।।इसकि योनि चखने का मौका मत गवाओ।।।।।।।मेरे पनदितजि।।।आआईई।।।।।।।।।।प।।।।।।
पनदित ने शीला को पेत के बल लिता दिया।।।उसकि सारि और पेत्तिसोअत उसकि हिपस के ऊपर चदा दिये।।और शीला कि हिपस पे किस्स करने लगा।।।शीला कि हिपस थोदि बदि थी।।।बहुत सोफ़त थी।।।।
पनदित: शीला।।।।।मैन तोह तेरे चूतद पे मर जाऊन।।।।।।
शीला: पनदितजि।।।।आह्ह।।।मरना हि है तोह मेरे चूतदोन के असलि दवार पे मरो।।।।।।आपने जो शिवलिनग दिया था वो मेरे चूतदोन के दवार पे आकर हि फसता था।।।।।।।।।।।
पनदित: तु फ़िकर मत कर।।।।।तेरे हर एक दवार का भोग लगाऊनगा।।।।
येह केह कर पनदित ने शीला को घोदा बनाया।।।और उसकि गानद चात-ने लगा।।।।
शीला को इसमेन बहुत अच्चा लग रहा था।।।।।।।।।पनदित शीला का अस्सहोले चात-ने के साथ साथ उसकि फ़ुद्दि को रगद रहा था।।।।।।।
शीला: आअह्हह।।।।चलो।।।पनदितजि।।।अब सवाहा कर दो।।।।।ऊस्सशह्हह्हह्ह
पनदित: चल।।।।अब मेरा परसाद लेने के लिये तैययर हो जा।।।
शीला: आह्हह।।।पनदितजि।।।।।आज मैन परसाद पीचे से लूनगि।।।।
पनदित: चल मेरि रनि।।।।जैसे तेरि मरज़ि।।।।।।
पनदित ने धीरे धीरे शीला कि गानद मेन अपना पूरा लुनद दाल दिया।।।।।।
शीला: आआअहह्हह्ह।।।।।।
पनदित: आअह।।।शीला पयारि।।।।बुस कुच सबर करले।।।।आह्ह
शीला: आआह्हह्ह।।।।पनदितजि।।।।मेरे पीचे।।।आऐई।।।। के दवार मेन।।।।आपका सवागत है।।।।।ऊई
पनदित: आअह्ह।।।।मेरे बान (अर्रोव) को तेरा पिचला दवार बहुत अच्चा लगा है।।।।।कितना तिघत और चिकना है तेरा पीचे का दवार।।।।।
शीला: आअह्हह।।।।पनदितजि।।।।।अपनेह ससूतर कि सपीद बदा दो।।।।रसे दो ना।।।।आअ।।।
पनदित ने गानद मेन धक्कोन कि सपीद बदा दि।।।
फिर शीला के गानद से निकाल कर लुनद उसकि फ़ुद्दि मेन दाल दिया।।।।
शीला: आयी माअ।।।।।।।।कोइ दवार मत चोरना।।।।।।।।आआ।।।आपकि बासुरि मेरे बीच के।।।आह्ह।।।।।।दवार मेन कया धुन बजा रहि है।।।।।।।।।।
पनदित: मेरि शीला।।।।।मेरि रनि।।।।तेरे चेदोन मेन मैन हि बासुरि बजाओनगा।।।।
शीला: आअह्हह्हह।।।पनदितजि।।।।मुझे योनि मेन बहुत।।।आअह।।।।खुजली हो रही है।।।।।अब अपना चाकु मेरि योनि पे चाला दो।।।।।।मितादो मेरि खुजली।।।।।मिताअओ ना।।।।।
पनदित ने शीला को लिता दिया।।।।।और उसके ऊओपर आके अपना लुनद उसकि चूत मेन दाल दिया।।।।।।साथ साथ उसने अपनि एक उनगलि शीला के गानद मेन दाल दि।।।।
शीला: आअह्हह्हह।।।।पनदितजि।।।।।पयार करो इस विधवा लदकि को।।।।।।अपनि बासुरि से तेज़ तेज़ धुनेह निकालो।।।।।।मितादो मेरि खुजली।।।।।।।।।।।।।।।।आहहह्हह्ह।।।।अ।आ।।ए।ए।।।।।
पनदित: आआह्हह्ह।।।मेरि राअनि।।।।।।।
शीला: ऊऊह्हह्हह्ह।।।।।।मेरे राज्जाअ।।।।।।।और तेज़ ।।।।।।।।।आऊऊउर्रर्रर तेज़्ज़ज़।।।।।आआह्हह्हह्हह।।।।।।।।।अनदर।।।और अनदर आज्जजाआ।।।।।।आअह्ह।।।।प्पप।।।स।स।।स।
पनदित: ।।।।।आह्हह।।।ओह्हह।।।।।।।।।।शीला।।।पयारि।।।।मैन चूत-ने वला हून।।।।
शीला: आअह्हह्ह।।।।।।मैन भी।।।।आआ।।।ई।।।।।।।ऊऊऊ।।।।।अनदर हि ।।।।।।गिरा।।।।द।।।दो अपना।।।।परसाद।।।।।
पनदित: आअह्हह्हह।।।।।।।।।।।
शीला: आआह्हह्हह।।।।।।।।।।।।।।।।।।अ।।अह।।।

ट्रक ड्राईवर के साथ सेक्स

हि दोसतो। मैं रजेश। मैने बहुतसि ऐसि कहनियोन कि कितबे पधि है। मैं ओर मेरे दोसत पत्रिस ओर जोनसोन ऐसे सतोरिएस कि कितबे लते है जो हिनदिमे होति है ओर चोरि चुपे खरब परिनत मे बेचि जति है। ये कहनि ऐसेहि एक कितब से है। अपको पसनद अयेगि। अकसर लोग ऐसिसे सोपी मरते है। तो पधिये ओर पनि मरिये।

मोना ओर कपिल कि शदि को दो महिनिहि हुए थे। मोना इसै थि। उनकि लोवे मरगे हुइ थि। पेर शदि के बाद कपिल का दिल ओफ़्फ़िसे के एक लदकिपेर अया हुअ था इसलिये मोना कपिल मे जमति नहि थि तो सेक्स का तो सवकल हि नहि था। वसे मोना बहुत सेक्सी थि। दिखने मे ओरदिनरी पेर बोदी मनो सेक्स कि गोद्देस्स हो। एकदम सुदौल भरि हुइ। बूबस भि धरे थिगत बिकुल शपे मे बदनपेर जैसे रुब्बेर के दो बल्लस। बदन का रनग थोदा सवला। मोना जसे बोमब को थुकरने वल शयेद पगल हि होगा कपिल जैसा। मोना को अपनि बदन के बारे मे पता थकि वो बहुथि सेक्सी है।वो हमेशा सलवर कमिज हि पेहनथि थि। उसका बदन कोइ ननगा देख लेता तो तीन चार बर चोद कर हि दम लेता। उनकि ये उनबन कपिल के परेनतसको पता थि। उनहोने उन दोनो को सकथिसे मधया परदेश कि त्रिप पेर भेजा। सोचा जुनगले नतुरे देख कर थोदा बदलव आजेगा। कपिल बिलकुल तैयार नहि था। उसकि माल तो ओफ़्फ़िसे मे थि। मोना वसेतो शरिफ़ ओर शरमिले किसमकि लदकि थि। कपिल 29 का था तो वो 27 कि। कपिल परेनतस कि खुशि के लिये रज़ि हो गया। त्रिपवले दिन उनहोने अपनि तयरि कि ओर सरलेले चल पदे। रसते मे चोति चोति बतोपेर लदैया शुरु हो गये। बाद मे उनहोने अपनि सर रसते मे चोते होतल पेर रोक दि। समन गदि मे हि था। दोनोने होतल मे खना खया ओर सर के पस अये।देखा तो कया समन चोरि हो गया था। कपिल को गुस्सा अया। होतल मे कोइ नहि था बुधि होतल मलकिन ओर दो नौकरो केसिवा। बुधि औरत को उन दोनोपर तरस अया। मोना ओर कपिल ने उसको सारि बात बतयि। वो बोलि कोइ बात नहि बेति मेरे पास कुच पुरने कपदे है। कुच लोग गलतिसे चोद गये थे ये रख लो। काम अयेनगे।
दोना वपस सर मे बैथकर चल दिये। बाद मे रात होनेकि वजह से एक लोदे मे रुख गये। वहपेर कपिल ने पहेले अपनि गिरलफ़रिएनद को फोन किया तो पता चला कि उसकि शादि कि बात हो रहि है। तीन दिनो मे कुच नहि किया तो गदबद होययेगि। कपिल गुस्सेसे पगल हो गया उसने सुभह को कि वपस जने का फ़ैसला कर दिया।उसने मोना कोभि साफ़ तौरपेर इसकसि वजह बता दि। मोना को कपिल पे बहुथि गुस्सा अया पेर कपिल का जिद्दि सवभव उसे सोल्लगे सेहि पता था। घर चलकर कपिल के परेनतस समभल लेनगे ये सोच कर उसने होतल से घर फोने करके उनको सरि बात बता दि। कपिल के परेनतस दुखि हो गये। वो बोले, तुम चिनता मतकरो हुम सब समभल लेनगे।
मोना थोदि बेखौफ़ हो गयि। रातमे कपिल को निनद नहि आयि। एक तो समन कपदा सब चोरि हो गया था। उपेर से ये सब। सुबह को उथतेहि उसने बरेअकफ़त मगवया। उस वकुत मोना ओर उसके बीच कहसुनि हो गै। गुस्से मे कपिलने तेअपोय को उदा दिया।सरि चये मोना के दरेस्स पेर जा गिरि। अब कया करे एक तो कपदे नहि जो थे वो भि खरबकर दिये। मोना मन्न हि मान मे कपिल को गलिया दे रहि थि। थोदि देरमे कपिल का गुस्सा थनदा हो गया। उसने मोना को भुधिया ने दिये ओर नहा धोकर तैयर रेहने को कहा। कपिल नहा कर अया मोना नहने के लिये गयि। नहने के बाद मोना ने गथरि खोलि। उसमे एक पुरने बलुए सोलौर कि त्रनपरेनत सारे,सया ओर बलौसे था। मोना को सारे पेहेन्ना पसनद नहि था। वो कपदे पेहेन्ने लगि तभि उसकि बरा तोइलेत मे जा गिरि। लोगे कि सफ़ै आप जानतेहि है। मोना ने इतनि गनदि बथरूम कबि नहि देखि थि। बहर से कपिल जलदि निकल ने केलिये अवज दे रहा था। मजबुरिमे मोना सरी पेहन्ने लगि। बलौसे पेहनते वकुत उसे बरा का खयल अया। वैसे भि उसके बल्लस तो तिघित ओर बदन सुदौल था उसे बरकि कोइ जौरत भि नहि थि। उसने बलौसे पेहना तो वो ओरदिनरी बलौसे से चोता था थोदा तिघत भि था। उसने हूकस लगये। बलौसे तिघत होने के साथ लुवनेसक ओर बसकलेस्स भि था। सलिवलेस्स नहि था।
सारि भि सिज़े मे थोदि चोति थि। मोना ने वो अपनि नवेल के निचे सकथि से बनध लि। पल्लु लिया।
वो बहर अयि। कपिल सर मे उसका इनतजर कर रहा था। उसने अपनेआप को आइनेमे देखा। सारि से उसका बदन धुनधलसा दिख रहा था। तिघत बलौसे मे से उसका सलेअवगे दिखरहा था। दीप नवेल। बलौसे मे से निप्पलेस साफ़ ज़लक रहे थे। वो मुद गये ओर अपने बसकसिदे को मिर्रोर मे देखा बसकलेस्स बलौसे मे से ननगि पीथ दिख रहि थि निचि सारे अस्स के उपर से तिघतली बनधि गयि थि। चलने पर उसके चाल एकदन सेक्सी दिकने लगि। मोना का बदन इस सोसतुमे मे उभरकर दिख रहथा। मोना निचे अकर सर मे बैथ गयि। सुकेर था कि लोगे मे सुबह कोइ नहि था। कपिल सर तेज़ भगा रहा था। वो दोपेहर को एक सुनसान जगह पेर एक धबे पेर रुक गये। वहा कोइ नहि था धबे का मलिक ओर उसका चतो नौकर। कपिल ने गदि परक कि।वो सतते कि बोरदेर के आसपस्स कहि थे। कपिल उतर कर फोने करने के लिये गया।
जहा उनकि सर परक कि हुइ थि उधर पस्स हि कोने मे एक त्रुसक परकिनग किया हुअ था। उसमे दो लोग थे। कपिल वपस अया तो उसे वो तुसक दिखा। उसने त्रुसकवले को अवज दि उसमेसे से तकरिबन 68 साल के दो लोग उत्रे। वो दोनो भै थे। बदे का नाम चरन परसद था।बिलकुल शनत ओर अछसे सवभव का। लोगो कि मदद करने मे पेहले। दुसरे का नाम रनगा था वो उसका चचेरा भै था। एकदुम घतिया किसम का बदे भैसे उलता। शरब से शबाब तक सब बुरि अदते उसमे थि। बदा महतमा था तो चोता शैतन था। बदे भै कि वजह से उसकि शरब औरत अदते नहि चलति थि। फिर भि चोरि चुपे वो उसमे लगा रेहता था। कपिल ने चरनपरसद से पेत्रोल पुमप के बरे मे पुचा।उसे भि पता नहि था। कपिल ओर वो धबे वले से पुचने के लिये वपस गये। एधर मोना सरमे अकेलि थि। गरमि का मौसम था। सर का अस भि खरब हुअ था। मोअन ने उसे कोइ ना देखे इसलिये शिशे बनध रखे थे।
अनदर वो गरमे से ज़ुलस रहि थि। कपिल भि बहर बते कर रहा था। मोना थोदि देर सर से बहर अयि। उसे लगा कि कि त्रुसक मेसे उसे कोइ देख रहा हो। उसने देखा तो वो रनगा था। उमर करिबन 65 साल बुधा फिर भि हतकता शकल से दरवना और कमिना सिर पर बरिक सफ़ेद बाल। दधि भि थोदि बधि हुइ। मोना गरमि से परेशन हो गै थि। रनगा लगतर उसे देख रहा था।मोना को ये अचा नहि लगा। वो वहा अकेलि थि। बदन पेर त्रनपरेनत सरी ओर सेक्सी बलौसे पेहनके। मोना मन्न मे हि उस बुधिया को भि कोस रहोथि। मोना को पता था कि ये सोसतुमे दुसरे सरी बलौसे से बिक्कुल अलग है जानबुच कर चोते किये हुए। अपनि बोदी दिखने के लिये जैसे सल्लगिरलस होति है। तभि उसका पल्लु गरम हवा के ज़ोकेसे उदा ओर पासकि नुकिलि पौधोमे अतक गया। वो उसे चुदने कि कोशिश करने लगे। वो पसेनेसे लबलब हो चुकि थि। रनगा को यहि चहिये था। वो उसके सुदौल बदन को खुला देखना चहता था। अब मोना उसके समने सेक्सी बलौसे मे थि। उसका उपरि बदन लगभग खुला हि था। रनगा उसका पसिनेसे चिकना हुअ बदन देख रहा था। वो बहर अया ओर थोदा पास अकेर खदा हो गया। उपेर से निचे तक उसे देखने लगा। दीप नवेल खुला पेत बदे तिघत बूबस। मोना के निप्पलेस भि साफ़ ज़लक रहे थे। मोना ने पिचे मुदकर पल्लु निकल लिया उसकि ननगि पेथ रनगा ने देखि। मोना सर मे बैथ गयि। रनगा अब सर के पास अकेर शिशे से मोना के बूबस देखकेर अपनि जीभ होतो पेरसे फिरनवे लगा। इतने मे उसका भै और कपिल आगये। उनको देखकेर वो वपसस त्रुसक मे बैथ गया। कपिल ने सर चलु कि पेर वो सतरत नहि हुइ। चरन परसाद ने कपिल को कहा, आप चहे तो मैं अपको शेहर चोद देता हु।
मैं भि वहि जा रहा हु। कपिल को किसि भि हलत मे पहुनचना था। वो हा बोला। चरन परसाद अची नियत का अदमि था। रनगा उसकि नजरोमे सुधेरनेका धोनग करते हुए रेहता था। चरन को भि कि अदते पता थि पेर उसकि नजरोमे वो अब सुधर गया था। कपिल ने रनगा पेर धयन नहि दिया। सब त्रुसक मे बैथ गये। चरन परसाद के बजु मे कपिल बैथ गया। मोना उनके पिचे बैथ गयि। मोना क पिचे ,त्रुसक मे जो सोने के लिये जगह होति है रनगा उसपेर लेता हुअ था। उसने मोना के पेचे का परदा बनध किया ओर परदेके पिचे जकेर सो गया। शम को अनधेरा पदने पेर रनगा जग गया। कपिल मोना बैथे बैथे सो रहे थे। चरन परसाद त्रुसक चला रहा था। रनगकि त्ररफ़ मोना कि पेथ थि। त्रुसक कि सबिन मे अनधेरा होने किवजह से चरन का धयन नहि गया वैसे भि उसका पुरा धयन त्रुसक चलने मे था। कपिल गहरि निनध सो रहा था।
रनगा ने परदे के कोने से हात बहर निकला ओर मोना कि पिथ को हलकेसे चुअ। मोना जाग गयि। पेर कुच नहि बोलि। रगा के दनो हाथ हरकत मे आगये वो मोना कि ननगि पिथको सेहलने लगा। मोना को कफ़ि गुस्सा अया पेर वो चुप बिति रहि।उसने सोचा कि अगेर उसने तमशा किया तो सरन रनगा को मार हि देगा और चरन के अछे सवभव के करन उनको लिफ़त मिलि थि। वो चुप चप बैथि रहि रनगा के सिरफ़ दोनो हाथ हि परदेके बहर थे।उसका हौसला बधा। उसने धरेसे दोना हाथ अगे मोना के पेत पेर सरका दिये। मोना का पल्लु गिर पदा। अब वो उसके पेत पेर हाथ फेरने लगा। उसकि दीप नवेल को सेहलने के बाद रनगा के हाथ मोना के बूबस पेर अगये। मोना के जिसम मे एक सुर्रेन दौद गया। उसनेसोचा अगेर कपिल बहेर सेक्स केर सकता है तो मैं एक बर इसका लुफ़थ कयोन ना उथौ? रनगा उनगलिया मोना के निप्पलेस पेर गोल गोल घुमा ने लगा।मोना पिचे खिसक केर बैथ गयि। रनगा ने परदेका कोना बजु करके मोना कि पिथ को चुमा। मोना के लिये ये एक नया अनुभव था। वो सपने भि नहि सोच सकति थि कि एक भुधा इतना सेक्सी हो सकता है। मोना चुकेसे परदेके अनदर सरक गये। उनदेर अतेहि रनगा ने उसे लिता दिया ओर उसका पेत नवेल चुमने लगा। उसने अपनि जीभ नवेल मे घुसा दि ओर चतने लगा। अब वो उपेर अया ओर मोना के होथ चुमने लगा। बाद मे गाल। फिर गला। अब रनगा मोअन के बूब को बलौसे के उपेर से हि चुमने लगा। मोना गरम हो गयि। उसने रनगा कि लुनगि कि तरफ़ देखा तो उसका 7इनच लमबा सोसक उबरकेर बहर अया था। मोना का बदन चखने वला रनगा दुनिया का सबसे खुशनसीब इनसान था। उसने मोना के बलौसे के हूक खोलने चहे मोना ने विरोध किया। वो बोला सिरफ़ एक बार मुज़े तुमहरा दुध पिने दो मैं वपस तुमहे तनग नहि करुनगा। मोना बोलि, अगर पिनिके बाद तुमने मुज़े चोदा तो? वो बोला कोइ बात नहि मैं सोनदुम खा चुका हु। अब तुमहे मुज़से बचा नहि होगा।
मोना ने हाथ हता देये रनगने बलौसे के हूकस खोले ओर उसके खदे निप्पलेस पेर तुत पदा। वो धिरे धिरे मोना के दोनो बल्लस चुस रहा था। उसने मोना का सया उपेर करके अपना सोसक उसकि चुत मे घुसा दिया। चुसते चुसते वो लुनद अगेपिचे करने लगा।मोना को शुमे तकलिफ़ हुए पेर बादमे मज़ा अने लागा। दोनोने दो बर पनि मरा। एक घनते ये सब चलता रहा। बाद मे मोना उथि कपदि दोनो पेहने। सुबह के 4 बजे थे। त्रुसक शेहर मे आचुका था। कपिल अब्बहि सो रहा था। उसका घर आने मे आधा घनता बाकि था। मोना बहर जने लगि रनगा ने वपस उस पकद लिया। ओर बोला अब अखोरि बर मुज़े तुमहरा दुध पिने दो मोना ने मना कपिल कि वजह से मना किया पेर रनगा जिद पेर अया।
मोना ने पल्लु हतकेर बलौसे के हूक खोले रनगा फिर से बल्ल चुसने लगा। मोना ने हाथ से उसका मुह सिनेसे हत्तनेकि कोशिश कि पेर रनगा ने उसके हथ पकद लिये। उसने मोना का पेत भि चुम लिया। मोनने बलौसे के बुत्तोन वपस लगा दिये ओर अगे अकेर बैथ गयि। चरन परसाद ओर कपिल को इस बात कि खबर भि नहि थि। कपिल का घर अनेपेर मोना ने उसे जगया। दोनो त्रुसकमेसे उतेर गये। त्रुसक निकल गया। रनगा चरन के बजुमे अकेर बैथ गया। चरन परसाद को मुह पोचता हुअ रनगा देखकेर कुच अजिब सा लगा। लेकिन शरब कि मेहेक नहि अयि इसलिये वो चुप रहा।

सौतेली मा और उनकि मा की चुदाइ

हि फ़रिएनद इ म दिनु अगैन बौघत अ देसि सतोरिएस फ़ोर यौ। ओने ओफ़ मी फ़रिएनद रमु फ़ुसकेद हिस सतेप मोथेर अनद ननि इन थे विल्लगे। इ विल्ल नर्रते हिस सतोरिएस अस बेलोव।
मैन रमु 18 साल का तनदुरसत जवन बेता हुन। हुम लोग उप के एक गावँ मे रहेते हैन। जब मैन 10 साल का था मेरि मा का देहनत होगया। और पितजि ने 22 साल कि एक गरिब लरकि से दुसरि सादि करलि। हुम लोग खेति बदि करके अपना दिन गुजरते थे। मैन जयदा पदा लिखा नहिन होने से पितजि ने घर के पास एक छोति इस किरने कि दूकन खोल ली। पितजि खेति पर जते थे और मैन या मेरि सौतेलि मा दूकन पर बैथते थे। जब मैन 15 साल का हुवा तो पितजि का अचनक देहनत हो गया। अब घर मैन केवल मैन और मेरि सौतेलि मा रहते थे। मेरि सौतेलि मा को मैन मा कहकर बुलता था। घर का एकलोता बेता होने से मैन मा मुज़े बहुत पयर करति थि। येह हदसा करिब एक महिने पहेले का हैन। मेरि मा थोदि मोति और सवनलि हैन और उसकि उमर 31 साल कि हैन। उसकि चुतर कफ़ि मोति हैन वो जब चलति हैन तो उसकि चूतर हिलति हैन उसके बूबस भि बदे बदे हैन। मैने कै बर उनको नहते हुये उनकि बूबस देखा था।
पितजि के देहनत के बाद हुम मा बेते हि घर मैन रहते थे और अकेला पन महसूस करते थे। दूकन मैन रहने के करन हुम लोग खेति नहिन करपते थे इसलिये खेत तो हुमने दूसरे को जुतै के लिये देदिया। मैन सुबह 7 बजे से दोपहर 12:30 बजे थे दूकन मैन बैथा था और 12:30 से 03:00 बजे तक घर मैन रहता था और फिर 3 बजे दूकन खोल कर कभि 06:30 या 07:00 दूकन बनद कर घर चला जता था। जब मुज़े दूकन का माल खरिदने सहर जना पदता था तो मा दूकन पर बैथति थि।
एक दिन मान ने दोपहर को खना खते समय उनहोने मुज़से पुछा, रमु बेते अगर तुमे इतरज़ ना हो तो कया मैन अपनि मा को यहन बूललु, कयोनकि वो भि गावँ मैन अकेलि रहति है और यहन अने से हमरा अकेला पन दूर होजये गा। मैने कहा, कोइ बात नहि मा आप ननिजि को यहन बूला लो।
अगले हफते ननिजि हमरे घर पहुच गयि। वो करिब 45 साल कि थि और उनके पति का देहनत 3 साल पहले हुवा था। ननि भि मोति और सनवलि थि और उनका बदन कफ़ि सेक्सि था।
जदे का समय था इसलिये सुबहा दूकन देरि से खुलति थि और शम को जलदि बनद कर देता था
घर पर मा और ननि दोनो सरि और बलौसे पहनति थि, और रात को सोते समय सरि खोल देति थि और केवल बलौसे और पेत्तिसोअत पहन कर सोति थि। मैन सोते समय केवल उनदेरवेअर और लुनघि पहन कर सोता था। एक दिन सुबह मेरि आनख खुलि तो देखा ननि मेरे कमरे मैन थि और मेरि लुनघि कि तरफ़ आनखे फद फद कर देख रहि थि। मैने जत से आनखे बनद करलि तकि वो समजे कि मैन अभि तक सो रहा हुन। मैने महसूस किया कि मेरा लुनद खदा होकर उनदेरवेअर से बहर निकला था और लुनघि थोदि सरकि हुई थि इसलिये मेरा मोता कला लुनद करिब 8 इनच लुमबा और कफ़ि मोता था उसे ननि आनखे फद फद कर देख रहि थि। कुच देर इसि तरह देखने के बद वो कमरे से बहर चली गयी। तब मैन उथ कर मेरा मोता लुनद उनदेरवेअर के उनदेर किया और लुनघि थिक करकि मुतने चला गया। नहा धो कर जब हुम सब मिलकर नसता कर रहे थे ननि बर बर मेरे लुनघि कि और देख रहि थि। सयद वो इस तक मैन थि कि लुनद के दरशन हो जये। जदे के दिनो मैन हुम दूकन 12 बजे खोलते थे। इसलिये मैन बहर अकर खत पर बैथ कर धूप का अननद ले रहा था। बहर एक छोता सा पत्रिसिअन था जिसमैन हुम लोग पेसब वगरेह करते थे। थोदि देर बद मैने देखा कि ननि आयी और पेसब करने चलि गये। वो पत्रिसिअन मैन जकर उपनि सरि और पेतिसोते कमर तक उनचि कि और इसतरह बैथि थि कि ननि कि कलि फनको वलि, जनतोन से घिरि चूत मुज़े साफ़ देखै दे रहि थि। ननि का सिर निचे था और मेरि नज़र उनकि चूत पर थि। पेसब करने के बद ननि करिब 5-10 मिनुतेस उसि तरह बैथि रहि और अपने दहिने हथ से चूत को लगर रहि थि। येह सब देख कर मेरा लुनद खदा हो गया, और जब ननि उथि तो मैने नज़र घूमा लि। मेरे पास से गुजरते हुवे ननि ने पुछा कया आज धूकन नहिन खोलनि हैन। मैने कहा, बस ननिजि 10 मिनुतेस मे जकर दूकन खोलता हुन। और मैन दूकन खोलने चलगया।
शम को दूकन से जब घर आया तो ननि फिर मेरे समने पेसब करने चलि गयी और सुबह कि तरह पेसब करके अपनि चूत को लगर रहि थि।
थोदि देर बद मैन बहर घूमने निकल गया, मा बोलि बेता जलदि आजना जदे का समय हैन। मैने कहा थिक हैन मा। और निकल गया।
रसते मैन मेरे दिमग मैन केवल ननि कि चूत हे चूत घूम रहि थि। मैन कभि कभि एक पौवा देसि सरब पिया करता हलकि आदत नहिन थि महिने दो महिने मैन एक आद बर पी लिया करता था। आज मेरे दिमग मैन केवल चूत हे चूत घूम रहि थि। इसलिये मैन देसि थेके पर देध पौवा पी लिया और चूप चप घर कि और चल पदा। मेरे पीने के बरे मैन मेरि मा जनति थि इसलिये कुच नहिन बोलति थि। कयोनकि मैन पी कर चूप चप सो जता था। रात कबरिब 9 बजे हुम सब ने मिलकर खना खया। खना खने के बद मा घर के कम मैन लग गयी और मैन और ननि खत पर बैथ कर बतेन कर रहे थे। थोदि देर बद मा भि आगयी और बतेन करने लगि। ननि ने कहा चलो कमरे मैन चलेत हैन वहिन बतेन करेनगे कयोनकि बहर थनद लग रहि हैन। इसलिये हुम सम कमरे मैन आगये। मा ने ननि और अपना बिसतर जमिन पर लगया और हुम सब निचे बैथ कर बतेन करने लगे। बतोन बतोन मैन ननि ने कहा, रमु आज तु हमरे साथ हे सो जा, मा बोलि ?लकिन यहन कहन सोयेगा और मुज़े मरदो के बीच सोने मे शरम आति हैन और निनद भि नहिन आति हैन? ननि बोलि बेति कया हुवा येह भि तो तुमहर बेते जैसे हि हैन हलनकि तु इसकि सौतेलि मा हैन फिर भि इसका कितना धयन रखति। अगर बेता सथ सो रहा हो तो इसमे सरम कि कया बात हैन। खेर ननि और मा मन गयी। मैन ननि और मा के बिच सो गया मेरे धिनि तरफ़ मा सो रहि थि और बहिन तरफ़ ननि।
सरब के नेसे के करन पता नहिन चला मुज़े कब निनद आगयी। करिब 1 बजे मुज़े पेसब लगि तो मैने आख खोलि तो बगल से हाआ हूऊऊऊऊ आआआआआ कि दीमि अवज सुनै दी मैने महसूस किया कि येह तो मा कि फुसफुसहत थि इसलिये मैन दीरे से मा कि और देखा, मा को देख कर मेरि आनखे खुलि कि खुलि रहगयी। मा अपने पेत्तिसोअत को करमर तल उपर करके बयेन हथ से चूत लगर रहि थि जबकि दहिने हथ कि उनगलिया चूत के अनदर बहर कर रहि । इसि तरह करिब 10 मिनुतेस बद वो पेत्तिसोअत नीचे कर के सोगयी सयद उसका पनि गिरगया होगा।
थोदि देर बद मैन उथ कर पेसब करने चला गया और पेसब करके वपस आकर ननि और मा के बीच सोगया। अब मेरि नज़र बर बर मा पर थि और नीनद नहिन आ रहि थि। इसलिये मैन ननि कि तरफ़ करवत लेकर सो गया। लेकिन फिर भि मुज़े नीनद नहिन आरहि थि, कयोन कि ननि कि और सोने के करन अब मेरे दिमग मैन ननि कि चूत नाच रहि थि। और मैन कसमकस मैन था और इसि तरह कबरिब एक घनता बीत गया। अचनक मेरि नज़र ननि के चूतर पर पदि मैने देखा कि उनका पेत्तिसोअत घोतनो से थोदा उपर उथा उवा था, अचनक मेरे सरबि दिमग मैन सैतन जग उथा मैं उथा और तेल के सिसि ले आया और ननि के पास मुह करके खुब सरा तेल मेरे सुपदे पर और लुनद के जद तक लगया। फिर धीरे धीरे से ननि का पेत्तिसोअत उत्तर के उप्पर करदिया। ननि का मुह दुसरि तरफ़ था इसलिये उनकि चूत के थोदे दरशन होगये। अब मैने हिम्मत कर के अपने लुनद का सुपद केवल ननि कि चूत के मुह के पास रखा, मैने महसूस किया कि ननि आहिसता आहिसता अपनि गानद को मेरे लुनद के पास कर रहि है। मैन समज गया कि सयद ननि चुदने के मूद मैन हैन। इसलिये मैने भि अपनि कमर का दक्का उनकि चूत पर दला जिस से मेरे सुपद ननि कि चूत मैन घूस गया। और उनके मुहा से हलकि चिक नकलि हय?????।।रमु अहिसता दलोना, कयोन कि तुमहरा लुनद कफ़ि बदा और मोता है और मैन भि कै सलोन से चुदवै नहिन हून। बेता धीरे धीरे और हैसता हैसता करो, कहा कर ननि सिधि लेत गयी और अपन पेत्तिसोअत कमर तक उनचा करदिया, अब मैन ननि के उप्पर चद कर धीरे धीरे अपना लुनद घूसा रहा था। जैसे जैसे लुनद अनदेर जता था वो उह्हह्हह्हह्हहफ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़फ़्फ़ ह्हह्हह्हह्हह्हह्हहाआआआअन्नन्नन्नन्न आआआआऐ कि अवजे नेकलने लगि। मैन जब अपना पुरा लुनद ननि कि चूत मैन दल चुक्का था तो मैने ननि कि आनखो मैन आनसु देखे मैने पुछा कया आप रोरहि हो उनहोने कहा नहि रे येह तो खुशि के आनसु हैन। आज कितने बरसो बद मेरि चूत मैन लुनद घूसा हुवा है। फिर मैन आपना लुनद अनदेर बहर करने लगा और जोर जोर से ननि कि चूत को चोद कर फरने लगा और ननि भि अपनि चुत्तर उथा उथा कर मेरा सथ देरहि थि। और बीच बीच मैन कहरहा रहि थि ?और जोर जोर से चोदो, मेरे रजा, वकै तुमहर लुनद इनसान का नहिन घोदे या घधे का है। करिब मैन 15-20 मिनुतेस उनकि चूत पर अपना मोता तगदा हथियर अनदर भहर कर रहा था इसि बीन मैने महसूस किया कि मा हमरि इस करिया तो सोये सोये देख रहि थि और मन हि मन सोच रहि थि, जब मेरि मा अपने नतिन से चुदवा सकति हैन तो कयोन ना मैन भि गनगा मैन दुबकि लगलू, कब तक मैन अपने हथोन का इसतमल करति रहूनगि ? अखिर येह मेरा सगा बेता थोदि है, और उथ कर उसने अपना पेत्तिसोअत खोल दिया और अपनि चूत ननि कि मुहा पर रख कर लगर ने लगि, पहले तो ननि सकपका गयी फिर समज गयी कि उसकि बेति भि पयसि हैन और अपने सौतेले बेते का लुनद खना चहति है, फिर ननि मा कि चूत मैन जीभ दलकर जीभ से चोदने लगि, इसि दरमियन ननि 3 बार जर चुकि, और कहने लगि बस रमु बस अब सहा नहिन जता हैन, मैने कहा, बस ननि 5 मिनुतेस और। 5 मिनुतेस बद मेरा सरा विरया ननि कि चूत मैन जा गिरा।
अब ननि थक कर सोगयी, मा ने कहा चलो बितर मैन चलेत हैन वहिन तुम मुज़े चोदना।
हुम दोनो बिसतर पर आगये, मेरा लुनद अभि सिकुदा हुवा था इसलिये मा ने लुनद को लेकर मुहा मे चूसना सुरु किया और मैन भि 69 कि पोसितिओन मैन उनकि चूत चतने लगा। येहा करिया करिब 10 मिनुतेस करते रहे और मेरा लुनद तन कर विशलकय होगया, अब मैने मा कि गान के नीचे अपने तकिया लगया और उनकि दोनो तनगो को मेरे कनधे पर रख कर लुनद पेलने लगा सुपरा जते हि बोलि है रे दैया कितना मोता है रे तेरा लुनद। खुब मज़ा आयेगा और फिर मैन मा को जोर जोर से चोद रहा था वो भि जयदा बुदि ना होने के करन मेरा खुब सथ दे रहि थि। पुरे कमरे मैन पाच पाच कि अवज़ आरहि थि। हुम करिब 1 घनते कै कै सतयलोन मैन चोदते रहे और लसत मैन मैने मा कि गानद भि मरि मा को कफ़ि मज़ा आया।
अब रोज मैन दोपहर को ननि को चोदता था (कयोन कि उमर होने के करन कभि कभि सथ नहिन देपति थि और मा तो रात मैन मदया रत्रि तक चोदथा था। कयोनि मा बानज़ थि इसलिये उनहे कोइ दर नहि था और हुम लोग खूब चोदते थे।